समाचार होम

हिजबुल्लाह नहीं बदलेगा अपनी सोच

लेवनान। हिजबुल्लह संगठन की कार्यकारणी परिषद के उपाध्यक्ष ने कहा है कि इस संगठन का दृष्टिकोण सुई की नोक के बराबर भी परिवर्तित नहीं होगा यहां तक कि उसके विरुद्ध जारी होने वाली विज्ञप्तियां कई टन हो जायें। शेख नबील काऊक ने रविवार को दक्षिणी लेबनान में आयोजित एक विशेष समारोह में कहा कि इन विज्ञप्तियों को जारी करने वाले इससे कमजोर और छोटे हैं कि वे प्रतिरोध के इरादे को तोड़ सकें।
ज्ञात रहे कि इस्लामी सहयोग संगठन ओआईसी की 13वीं बैठक की विज्ञप्ति का मसौदा रियाज के दबाव और प्रलोभन में सऊदी अरब के जद्दा नगर में तैयार हुआ था और अभी हाल ही तुर्की के इस्तांबोल नगर में होने वाले ओआईसी के शिखर सम्मेलन में समीक्षा किये बिना उसे पढ़ दिया गया जिसका जायोनी शासन ने स्वागत किया है। हिज़्बुल्लाह की कार्यकारणी परिषद के उपाध्यक्ष ने इसी प्रकार स्पष्ट किया कि कुछ को जान लेना चाहिये कि वे अरब देशों, फार्स की खाड़ी और इस्लामी देशों में होने वाली बैठकों के पीछे नहीं छिप सकते। उन्होंने कहा कि अतिक्रमणकारियों के माथे पर यमनी, बहरैनी, इराकी और सीरियाई जनता के खून का जो धब्बा लगा है उसे वे छिपा नहीं सकते। उन्होंने कहा कि सऊदी अरब की अतिक्रमणकारी व्यवस्था जो यह दावा करती है कि उसे प्रतिरोध के मुकाबले में बहुत सफलता मिली है उससे कहीं अधिक उसे नुकसान उठाना पड़ा है और इस समय विश्व में उसकी छवि खराब हो गयी है और उसकी भूमिका समाप्त हो गयी है और वह विज्ञप्ति जारी करके उसकी भरपाई नहीं कर सकती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *