शिक्षा/टेक्नालाजी समाचार

हर 10 मिनट में 1 साइबर अपराध होता है : रक्षित टंडन

एमिटी में साइबरस्पेस में चुनौतियां पर पैनल चर्चा का आयोजन
हर 10 मिनट में 1 साइबर अपराध होता है : रक्षित टंडन
नोएडा (अकांक्षा)। एमिटी बिजनेस स्कूल द्वारा साइबरस्पेस में चुनौतियां विषय पर पैनल चर्चा का आयोजन एमिटी विश्वविद्यालय, सैकटर 125 नोएडा में किया गया। इस कार्यक्रम पर छात्रों की जागरूकता हेतु जाने माने दिग्गजों ने हिस्सा लिया। पैनल चर्चा का शुभांरभ साइबरलॉ एंव ई कॉमर्स के क्षेत्र में वकील विशेषज्ञ पवन दुग्गल, साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ एंव सलाहकार रक्षित टंडन, टीसीजी डिजिटल के साइबर वॉर्यर कर्नल पंकज वर्मा, इंस्पेक्टर सीबीआई आकंक्षा गुप्ता, एमिटी बिजनेस स्कूल के निदेशक डा संजीव बंसल, एमिटी एजुकेशन ग्रुप के सीआईओ डा जे एस सोढ़ी ने पारम्परिक दीप जलाकर किया।

Dr.-Sanjeev-Bansal.-Dean-Faculy-of-Management-Sudies-Director-Head-Amity-Business-School-presenting-a-sappling-to-Ms.-Akanksha-Gupta-

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ एंव सलाहकार रक्षित टंडन ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि एनसीआर में हर 10 मिनट में 1 साइबर अपराध होता है। साइबर अपराध से बड़े उद्योगों से लेकर छोटे उद्योग तक को खतरा है।  लोग अक्सर स्ंवय के लिए एथिकल हैकर शब्द का प्रयोग करते है लेकिन एथिकल हैकर जैसा कुछ नहीं होता है। देखा गया है कि साइबर अपराध में अधिकतम युवा ही शामिल होते है। इस समय हम सभी साइबर अपराध के ज्वालामुखी पर बैठे है। आप सभी नवीनतम तकनीक को प्रयोग कर स्मार्ट उपयोगकर्ता बने। इन 4 से 5 सालों में जीतना विकास डिजिटल भारत से हुआ है उसे पहले इतना विकास नहीं हुआ था। रोजाना साइबर पर आधरित शिकायतें आती है लोगों को साइबर कानून के बारे में जानकारी नहीं होती है। वर्ष 2017 में भारत में 22782 साइबर अपराध केस हुए है।
साइबरलॉ एंव ई कॉमर्स के क्षेत्र में वकील विशेषज्ञ पवन दुग्गल ने कहा कि जब भी आप किसी एप्प में साइन इन करते है तो आप अपना सारा डेटा उस कंपनी के हवाले कर देते है और वहीं आपकी निजी जानकारी निजी नहीं रहती है। प्रति व्यक्ति के डेटा की किमत मात्र 1 पैसा होती है इसलिए सदैव सतर्क रहे और अपना मोबाइल एंव पासवर्ड किसी को न दे। किसी पर भी विश्वास न करे। जिस किसी के पास भी स्मार्ट फोन है इसका अर्थ है कि वह साइबर के अंतर्गत है। किसी को भी किसी प्रकार के संदेश, फोटो आदी भेजने में सावधानी रखे अन्यथा इससे आप बड़ी समस्या में भी पढ़ सकते है।
एमिटी एजुकेषन ग्रुप के सीआईओ डा जे एस सोढ़ी ने कहा कि साइबरस्पेस में चुनौतियां विषय सबसे अहम एंव आज के समय में महत्वपूर्ण विषय लेकिन इसको इतनी अहमियत नहीं मिलती जितनी मिलनी चाहिए। हम सभी को यह गलतफहमी है कि हम सब साइबर के तहत सुरक्षित है पर ऐसा नहीं है। इंटरनेट के साथ अनेक प्रकार की चुनौतियां जुड़ी है। लगभग सभी देशों के लिए उसका महत्वपूर्ण इंफ्ररास्ट्रक्चर की सुरक्षा अहम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *