समाचार

हमें पर्यावरण का खास ध्यान रखना होगा, हम इस महत्वपूर्ण विषय को अनदेखा नहीं कर सकते: खट्टर

हमें पर्यावरण का खास ध्यान रखना होगा, हम इस महत्वपूर्ण विषय को अनदेखा नहीं कर सकते: खट्टर
गुरूग्राम (संवाददाता)। एमिटी युनिवर्सिटी हरियाणा में दो दिन (27 व 28 अक्तुबर) के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया। पर्यावरण के विधिक आयामों पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसके उद्धाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर मौजूद पहुंचे। एमिटी एजुकेशन ग्रुप के संस्थापक डॉ अशोक के चौहान, कुलाधिपति डॉ असीम चौहान, कुलपति प्रो. पी .बी शर्मा, सम्मानीय न्यायमूर्ति जी एस सिंघवी भी मौजूद रहे। माननीय मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी ने युनिवर्सिटी में हाईटैक सुविधाओं से लैस सेंट्रल लाईब्रेरीह्व का उद्धाटन भी किया।
एमिटी विश्वविदयालय ने एक सकारात्मक पहल करतें हुए पर्यावरण और प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण से जुड़े कानूनी पहलुओ पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया है। यह सम्मलेन सम्पूर्ण विश्व के लिए महत्पूर्ण विषय है क्योंकि प्रदुषण एवं जलवायु परिवर्तन की गहन चुनौतियों से विश्व के समस्त राष्ट्र निपटने के लिए कटिबद्ध है । यह सम्मेलन हमारे जीवन के अस्तित्व से जुडा हुआ है अत: हम सबको इस विषय पर गहन मंथन करने की आवश्यक्ता है। जिससे हम सतत् विकास की अवधारणा को वास्तिवक रूप से सुनिश्चित करने की ओर अग्रसर हों ।
इस सम्मेलन का मूल उद्देश्य पर्यारवण के विधिक आयामों पर हो रहे रिसर्च और डेवेलेपमेंट में बदलाव और कानूनी बदलाव पर मंथन करना है। दो दिन चलने वाली इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में देश विदेश (बांग्लादेश, श्रीलंका, जर्मनी, नेपाल, स्वीडन आदि) से जुड़े 150 विद्यार्थी और प्रतिनिधि एक दुसरे से इस विषय पर विचार विमर्श करेंगे। इस सम्मेलन में प्रतिभागी पेपर प्रदर्शित भी करेंगे। यह विद्यार्थियों औ? फैकल्टी के लिए एक बेहतरीन मौका है जो देश विदेश से आए अतिथिगण औ? प्रतिष्ठित न्यायविदों से रूबरू हो सकेंगे। इस सम्मेलन से पर्यावरण कानूनों को एक नए नजरिए से देखने की कोशिश की जाएगी जिससे दुनिया को मानव जाति के लिए एक बेहतर स्थान बना सकें।
मुख्यमंत्री मनोहरन लाल खट्टर ने एमिटी युनिवर्सिटी में मौजूद विद्यार्थी और अतिथिगण को संबोधित करते हुए कहा कि हमें पर्यावरण का खास ध्यान रखना होगा, हम इस महत्वपूर्ण विषय को अनदेखा नहीं कर सकते मुझे इस बात की अत्यंत प्रसन्नता है कि एमिटी विश्वविद्यालय हरियाणा को भारत में सर्वाधिक पर्यावरण हितैशी विश्वविद्यालय होने के लिए ह्यअमेरिकी संस्थान (यू एस ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल) द्वारा प्लैटिनम कैटेगिरी के सर्वोच्च लीड सर्टिफिकेशन का सम्मान प्रदान किया गया है। यह सम्मान प्राप्त करने वाला एमिटी विश्वविद्यालय अब तक भारत का एकमात्र एवं एशिया का दूसरा संस्थान है। मुझे संज्ञान है कि अक्षय उर्जा के स्त्रोतो का उपयोग करके जल संसाधनो का पुनर्चक्रीकरण करके एवं ग्रीन बिल्डिंग स्थापत्य कला का उपयोग कर इस विष्वविद्यालय ने सतत् विकास की परिकल्पना को जो मूर्त रूप प्रदान किया है वह निष्चय ही प्रदेश के अन्य विश्वविद्यालयों के लिए एक अनुकरणीय पहल है।


मैं आज आप सब के बीच उपस्थित होकर प्रसन्नता का अनुभव कर रहा हूँ। मुझे इस बात की खुशी है की एमिटी विश्वविदयालय ने एक सकारात्मक पहल करतें हुए पर्यावरण और प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण से जुड़े कानूनी पहलुओ पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया है। यह सम्मलेन यहाँ उपस्तिथ लोगो के लिए ही नहीं अपितु सम्पूर्ण विश्व के लिए महत्पूर्ण है क्योंकि प्रदुषण एवं जलवायु परिवर्तन की गहन चुनौतियों से विश्व के समस्त राष्ट्र निपटने के लिए कटिबद्ध है । यह विषय हमारे जीवन के अस्तित्व से जुडा हुआ है अत: हम सबको इस विषय पर गहन मंथन करने की आवश्यक्ता है। जिससे हम सतत् विकास की अवधारणा को वास्तिवक रूप से सुनिष्चत करने की ओर अग्रसर हों ।
एमिटी समूह के संस्थापक डॉ अशोक के चौहान ने कहा कि अगर आप जिंदगी में मिशन बना ले, तो आप सब चुनौतीयों को यकीनन पूरा कर देंगे। आपको अपना उद्देश्य पूरा करने से कोई रोक नहीं पाएगा।
एमिटी युनिवर्सिटी हरियाणा के चांसलर, डॉ असीम चौहान ने कहा कि बढ़ते औद्योगिक विकास और शहरीकरण से यकीनन पर्यावरण को नुकसान पहुंच रहा है। मुझे खुशी है कि एमिटी युनिवर्सिटी में पर्यावरण की देखरेख के लिए खास महत्तव दिया जाता है और इसके लिए अंत्तरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया है जिसमें देश विदेश से लॉ जगत की जानी मानी हस्तियां कैंपस में इकट्ठा हुई है।
एमिटी युनिवर्सिटी हरियाणा के वाईस चांसलर, प्रो पी बी शर्मा ने कहा कि सतत विकास के लिए पर्यावरण की देखरेख के लिए विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। पर्यावरण के स्वास्थय के साथ ही राष्ट्र का स्वास्थय और अर्थवयवस्था जुड़ी हुई है। इस सम्मेलन से हम पर्यावरण को बेहतर बनाने में विचार विमर्श करेंगे।


मेजर जनरल पी के शर्मा (रिटायर्ड), डॉयरेक्टर, एमिटी लॉ स्कूल ने सम्मेलन के उद्देश्य और अहमियत के बारे में बताया।
प्रो पद्माकली बैनर्जी, प्रो वाईस चांसलर ने अंत में सबको धन्यवाद दिया।
डॉ डी सुरेश (आईएएस), कमिश्नर गुरूग्राम डिविजन, श्री संदीप खैरवार (आईपीएस), कमिश्नर आॅफ पुलिस गुरूग्राम, श्रीमती बिमला चौधरी, एमएलए, पटौदी, श्री राव नरबीर सिंह, कैबिनेट मिनिस्टर आॅफ हरियाणा, चौधरी तेजपाल तंवर, एमएलए सोहना, भूपिंदर सिंह चौहान, प्रेसीडेंट बीजेपी, गुरूग्राम, विनय प्रताप सिंह, डिप्टी कमिश्नर गुरूग्राम।

 

VIDEO

वीडियो को लाइक करें, कमेंट्स करें और साक्षा करें

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *