समाचार

मुस्लिम अधिकारियों ने नहीं दी थी आतिशबाजी की अनुमति हिंदू संगठनो ने लगाया था सांप्रदायिकता का आरोप

नई दिल्ली। केरल में कोल्लम के पास स्थित पुत्तिंगल देवी मंदिर में लगी भीषण आग में अभी तक 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है,  383 गंभीर रूप से घायल हैं। मंदिर में आतिशबाजी के प्रदर्शन के चलते यह भयानक आग लगी।
सूत्रों के मुताबिक, कोल्लम जिलाधिकारी ए. शाइनामोल और एडीएम ए. शानवाज दोनों मुस्लिम अधिकारी हैं। दोनों मंदिर में आतिशबाजी की इजाजत नहीं दी थी। इसके बाद स्थानीय हिंदू संगठनों ने दोनों अधिकारियों पर सांप्रदायिक मकसद के चलते आतिशबाजी की परमिशन न दिए जाने का आरोप लगाया था। मंदिर के वार्षिकोसव पर आतिशबाजी का प्रदर्शन हो या इसे लेकर शनिवार दोपहर तक असमंजस बना रहा। जबकि मंदिर प्रशासन ने राजनीतिक दलों का समर्थन हासिल कर लिया था। सुत्रों के अनुसार मंदिर प्रशासन को भरोसा था कि आतिशबाजी में कोई बाधा नहीं पड़ेगी, अभी केरल में चुनाव का समय चल रहा है और आतिशबाजी कराने का फैसला ले लिया गया।
प्रशासन की ओर से आतिशबाजी के प्रदर्शन पर प्रतिबंध था और उसका पालन कराने की जिम्मेदारी पुलिस पर थी। शनिवार रात को जब आतिशबाजी का प्रदर्शन शुरु हुआ तब मौके पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात थे। कोल्लम के पुलिस कमिश्नर पी प्रकाश ने मीडिया को बताया कि बैन सिर्फ प्रतिस्पर्धी आतिशबाजी पर था। आयोजकों ने पुलिस से गुजारिश की थी कि परंपरा के लिए थोड़ी बहुत आतिशबाजी की इजाजत दे दी जाए। कमिश्नर ने बताया कि हमने आयोजकों से परमिशन लेने की बात कही तो उन्होंने कहा कि उनके पास प्रशासन की मंजूरी है, जब उनसे लिखित आदेश दिखाने को कहा गया तो उन्होंने इनकार कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *