समाचार

मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के काफिले की कार से नहीं हुआ था हादसा: एचआरडी मिनिस्ट्री

नई दिल्ली। यमुना एक्सप्रेस वे हादसे में रविवार को मारे गए बाइक सवार के परिजनों ने जहां मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी पर मदद ना करने का आरोप लगाया है। जबकि मंत्रालय ने कहा है कि हादसा केंद्रीय मंत्री के काफिले के वाहन से नहीं हुआ था। साथ ही, यह भी कहा है कि स्मृति ने ही खुद एसएसपी को फोन करके घायलों की मदद के लिए एंबुलेंस मंगाई थी। इस हादसे में रमेश नागर नामक डॉक्टर की मौत हो गई थी और उसके परिजन घायल हुए थे। अब उसके परिजनों ने आरोप लगाया है कि हादसे के बाद स्मृति ने कोई मदद नहीं की और नागर सड़क पर तड़पते रहे। हादसे में मारे गए व्यक्ति की बेटी व बेटे ने आरोप लगाया है कि वो हाथ जोड़कर मदद मांगते रहे, लेकिन केंद्रीय मंत्री वहां से चली गईं। इन आरोपों के बाद अब मंत्रालय के प्रवक्ता ने इसे पूरी तरह गलत बताते हुए कहा है कि हादसा किसी अन्य वाहन की टक्कर से हुआ था, मंत्री के काफिले के वाहन से नहीं। इस हादसे का स्मृति के काफिले से कोई लेना-देना नहीं है। हादसे को देखकर स्मृति ने एसएसपी मथुरा को फोन कर एंबुलेंस मंगवाई थी, ताकि घायलों को तुरंत मेडिकल सहायता मिल सके। स्मृति ने हादसे के बाद इसकी जानकारी ट्विटर पर दी थी, जिसमें उन्होंने बताया था कि हादसा पहले हो चुका था और दुर्घटनाग्रस्त वाहनों से उनके काफिले के वाहन भी टकराए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *