शिक्षा/टेक्नालाजी समाचार

“मनोचिकित्सक तैयार कर रहा है एमिटी”

“मनोचिकित्सक तैयार कर रहा है एमिटी”

मानसिक रोगियों का देश बना भारत, 15 करोड़ से ज्यादा लोग बीमार

क्लिनिकल साइकोलोजी में एम.फिल कोर्स शुरू करने वाला प्रदेश का पहला निजी विश्वविद्यालय

 ग्वालियर(सुनील गोयल ) आज के दौर अगर कोई सबसे बड़ी और जटिल परेशानी है तो वह है मानसिक तनाव जिसके चलते समाज में नशे की लत, हिंसा, अपराध सहित आत्महत्या की प्रवृत्ति में भी अप्रत्याशित वृद्धि हुई है दिक्कत यह भी है कि महानगरीय जीवनशैली तो मानसिक तनाव और नशे का पर्याय ही बन गई है  ऐसे में समाज के एक बड़े वर्ग को इसी मानसिक तनाव का निदान सुलभ कराने के लिए एमिटी विश्वविद्यालय मध्यप्रदेश ने एक बर्ष पहले क्लिनिकल साइकोलोजी में एम.फिल पाठ्यक्रम शुरू कियासमाज में बढती मानसिक असंतुलन की समस्या पर रोकथाम के लिए रिहैबिलिटेशन कौंसिल ऑफ इंडिया ने एमिटी विश्विधालय मध्यप्रदेश को कोर्स संचालन की अनुमति दी थी प्रदेश में एमिटी ऐसा प्रथम निजी विश्वविद्यालय है,जिसे नैदानिक मनोविज्ञान में शोध को बढ़ाबा देने के लिए भारतीय पुनर्वास परिषद ने बर्ष 2016-17 एवं 2017-18 के लिए एम.फिल इन क्लिनिकल साइकोलोजीपाठ्यकम को मान्यता प्रदान की ख़ास बात यह है कि यह कोर्स करने वालोँ को मनोवैज्ञानिक चिकित्सक का दर्जा देते हुए क्लिनिक संचालित करते हुए मनोवैज्ञानिक उपचार की वैधानिक पात्रता मिलेगी

मानसिक रोगियों का देश बना भारत, 15 करोड़ से ज्यादा लोग बीमार

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेज (निमहांस) के रिसर्च स्टडी में पाया गया है कि भारत में मानसिक रोग भयावह स्थिति में पहुंच गया है। रिसर्च के ताजा आंकड़ों के अनुसार भारत में कुल आबादी के 13.7 प्रतिशत यानि लगभग 17 करोड़ लोग कई प्रकार के मानसिक रोग के शिकार हैं। 13 करोड़ लोगों को तुरंत इलाज की जरूरत। इस संबंध में एमिटी विश्वविद्यालय के वाईस चांसलर जनरल वी.के.शर्मा एवीएसम रिटायर्ड, ने बताया कि,विश्वभर के कई देश मनोवैज्ञानिक चिकित्सा के क्षेत्र में बहुत सतर्क और सक्रीय है लेकिन हमारे देश मे इस दिशा में ठोस प्रयासों की आवश्यकता है  इसी दिशा में कदम बढाते हुए हमने क्लिनिकल साइकोलोजी में एम.फिल कोर्स शुरू किया है ताकि यहाँ से शिक्षण प्रशिक्षण प्राप्त कर युवा समाज की सेवा कर सकेंवहीं एमिटी के प्रो-वाईस चांसलर प्रोफेसर (डॉ.) एम.पी.कौशिक ने बताया, कि हमें गर्व है कि, प्रदेश में उच्च शिक्षा को समर्पित एमिटी विश्वविद्यालय को इस कोर्स के संचालन की स्वीकृति मिली है  उन्होंने कहा कि पिछले एक वर्ष में हमने क्लिनिकल साइकोलोजी कोर्स के लिए शोध, सुविधाएँ उच्चतम स्तर तक ले जाने के प्रयास किए है, जो भबिष्य में एक मील का पत्थर साबित होंगा। 


VIDEO – : पैशन से बड़ा कुछ नहीं होता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *