भोपाल के इस्लाम नगर में 22,23,24 और 25 को आलमी तब्लीगी इज्तिमा

नई दिल्ली। भोपाल के बाहरी इलाके इस्लाम नगर के इंटखेड़ी मोलवी गंज में चार दिवसीय आलमी तब्लीगी इज्तिमा होने जा रहा है। ये इज्तिमा 22 से 25 नवंबर, 2019 तक चलेगा। ये इज्तिमे का 72 वां साल होगा,  जिसे धार्मिक बैठक कहा जाता है। चार दिन के इस तबलीगी इज्तिमे में दस लाख लोगों के शामिल होने की उम्मीद है। यह तबलीगी सभी विश्व की सबसे बड़ी धार्मिक सभाओं में से एक है। जिसमें कोई राजनीतिक संबद्धता नहीं होती है। इस तबलीगी सभा में मुसलमान और गैर-मुस्लिमों के लिए सबसे बड़े आध्यात्मिक संदेशों का आधान प्रदान होता है।

भोपाल में नवाबों के दौर से इसे एक आलमी तब्लीगी इज्तिमा के रूप में पहली बार 1944 में शुरु किया गया था। पहली बार इस इज्तिमें में मात्र 14 लोग शामिल हुए थे। यह कारवां अब साल-दर-साल आगे बढ़ा और दुनियाभर के लोगों की आस्था का केंद्र बना। आस्था का आलम ये है कि इस बार 22  नवम्बर से शुरू हो रहे चार दिवसीय तबलीगी इज्तिमें में करीब 10 लाख लोगों के पहुंचने की उम्मीद है।

आलमी तब्लिगी इज्तिमे का शाब्दिक अर्थ है विश्वस्तरीय धार्मिक सम्मलेन। पूरी दुनिया से इस्लाम के अनुयायी धर्म की शिक्षा हासिल करने और सिखाने के लिए  आते हैं। इस दौरान उलेमा की तकरीरें भी होती हैं। जिसमें कुरआन में दी गई शिक्षा के मुताबिक किस तरह से जिंदगी गुजारे।

इज्तिमें में रूस, फ्रांस, कजाकिस्तान, इंडोनेशिया,  मलेशिया, जाम्बिया, दक्षिण अफ्रीका, कीनिया, इराक, सऊदी अरब, इथियोपिया ,यमन,  सोमालिया, थाईलैंड, तुर्की  और श्रीलंका से हजारों की तादाद में जमाती तीन दिनी आयोजन में शिरकत करने के लिए भोपाल आते हैं। भोपाल में इज्तिमे की शुरुआत 72 साल पहले नवाबी दौर में हुई थी, पहले एक मस्जिद में मौलाना मिस्कीन साहब ने इसकी नींव रखी थी। पहली बार उनके साथ 14 लोग जुटे थे। उसके बाद ताजुल मस्जिद में इसका आयोजन होने लगा। साल-दर-साल लोगों की आस्था बढ़ने लगी और इसमें शिरकत करने वालों में कई देशों के लोग भी जुड़ने लगे।

भोपाल में इस साल आलमी तब्लीगी इज्तिमा 22 नवम्बर को फजिर की नमाज के साथ शुरू होगा। वहीं 25 नवंबर को इसका समापन होगा। दिल्ली स्थित तब्लीगी जमात के मरकज  से आए उलेमा 4 दिन तक तकरीर करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *