समाचार स्वास्थ्य

फेफड़ों की जांच के लिए एमिटी विश्वविद्यालय में कैंप का आयोजन

फेफड़ंों की जांच के लिए एमिटी विश्वविद्यालय में कैंप का आयोजन
नोएडा (अनिल दुबे)। एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ फिजियोलॉजी एंड एलाइड सांइसेस, एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ फिजियोथिरेपी एंव एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ आक्यूपेशनल थिरेपी द्वारा सिप्ला लिमिटेड दिल्ली के सहयोग से एमिटी विश्वविद्यालय के एफ वन ब्लाक में छात्रों हेतु फेफड़ों की परिक्षण के नि:शुल्क आकलन शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर में सैकड़ो छात्रो ने जांच कराई।
एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ फिजियोलॉजी एंड एलाइड सांइसेस की निदेशिका डा अर्पणा सरकार ने जानकारी देते हुए बताया बढ़ते प्रदूषण एंव बदलती जीवनशैली से लोगों मे फेफड़ो से संबधित बिमारी बढ़ रही है। नियमित व्यायाम न करना और धुम्रपान जैसे लतों से लोग दमा एंव अन्य ष्वसन संबधी बिमारियों से ग्रस्त हो रहे है। छात्रो को प्लमोनरी टेस्टींग की जंाच कर उनके श्वसन प्रणाली का मूल्यकांन करने हेतु एंव छात्रों को श्वसन संबधित बिमारियों के प्रति जागरूक करने के लिए सिप्ला लिमिटेड दिल्ली के सहयोग से इस कैंप का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सिप्ला लिमिटेड के ब्रिद फ्री कैपेंन के एजुकेटर मैनेजर श्री संजीव वर्मा एंव वरिष्ठ तकनीशियन श्री उदित ने छात्रों के प्लमोनरी की जांच। डा सरकार ने कहा कि इस अवसर छात्रों के रक्तचाप, प्लस रेट, वजन एंव लबंाई आदि की जांच भी की गई। उन्होनें कहा कि इस अवसर पर डा हेर्षा विज छात्रों को उनके जांच रिपोर्ट के अनुसार सलाह भी देगें।
विदित हो कि प्लमोनरी टेस्टींग श्वसन प्रणाली का मूल्यांकन करने वाला महत्वपूर्ण उपकरण है जो रोगी के इतिहास, फेफड़ों के विभिन्न इमेजिंग अध्ययन एंव इनवेसिव परिक्षण जैसे ब्रांकोज्ञकसेपी एंव ओपन लंग बायोपॅसी में महत्वपूर्ण सहायक है। यह श्वसन रोग विज्ञान के रोगीयों की जांच और निगरानी का एक महत्वपूर्ण उपकरण है जो फेफड़ों के बड़े एंव छोटे वायुमार्ग प्लमोनरी पैरेकाइन्मा एंव प्लमोनरी कैपीलरी बेड के आकार एंव अखंडता के संर्दभ में विस्तृत जानकारी प्रदान करता है।
इस अवसर पर एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ फिजियोलॉजी एंड एलाइड सांइसेस की डा सुदिप्ता साहा, डा अनु बंसल, डा मीनाक्षी सिंह एंव डा विदुशी शर्मा भी उपस्थित थी।

—————————————————————————————————————————–

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *