शिक्षा/टेक्नालाजी समाचार

पर्यावरण सुरक्षा के लिए साइकिल की सवारी करेंगे एमिटी विश्वविद्यालय के छात्र

एमिटी बना भारत का प्रथम हरित कॉलेज परिसर
नोएडाा ( अनिल दुबे)। प्रधानमंत्री के ”आओ साइकिल चलायेेें पहल को सहयोग करते हुए और एमिटी में हरित पर्यावरण एंव स्वस्थ जीवनशैली के लिए सभी को प्रेरित करने के लिए एमिटी बिजनेस स्कूल द्वारा मोबाइसी के सहयोग से ” हरित कॉलेज परिसर पहल का षुभारंभ एफ थ्री सभागार, एमिटी विश्वविद्यालय में किया गया।

इस पहल के अंर्तगत छात्रों, शिक्षकों एंव अन्य व्यक्तियों के लिए संस्थान परिसर में साइकिल की व्यवस्था होगी जिसे ऐप द्वारा प्राप्त किया जा सकेगा और उसी ऐप पर किराये का भुगतान कर सकते है। इस ” हरित कॉलेज परिसर पहल का शुभारंभ एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डा (श्रीमती) बलविंदर षुक्ला, फैकल्टी मैनजमेंट स्टडीज के डीन एंव एमिटी बिजनेस स्कूल के निदेशक डा संजीव बंसल, मोबाइसी के संस्थापक एंव सीईओ श्री आकाष गुप्ता, एमिटी विश्वविद्यालय की उपाध्यक्ष – कम्यूनिकेशन डा सविता मेहता द्वारा किया गया।


एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डा (श्रीमती) बलविंदर शुक्ला ने मोबाइसी एंव एमिटी बिजनेस स्कूल के इस प्रकार की पहल के लिए बधाई देते हुए कहा कि यह पहल निश्चित ही पर्यावरण की सुरक्षा में सहायक होगी और छात्रों के द्वारा अन्य लोगों को पर्यावरण सुरक्षा के प्रति जागरूक भी करेगी।


मोबाइसी के संस्थापक एंव सीईओ आकाश गुप्ता ने कहा कि इस सेवा को दिल्ली एनसीआर में विभिन्न स्थानों पर प्रारंभ किया है। अभी यह सुविधा अत्यंत कम शुल्क में एमिटी विश्वविद्यालय के छात्रो हेतु परिसर के अंदर संचालित किया जायेगा और शीघ्र ही सारे नोएडा मे यह सेवा प्रारंभ की जायेगी। श्री गुप्ता ने कहा इस सेवा हेतु मोबइसी नामक एप डाउनलोड करना होगा और क्यूआर कोड से साइकिल का ताला खुल जायेगा और इसका भुगतान भी डिजिटल तरीके से किया जा सकेगा। यह एक प्रयास है जिससे न केवल प्रदूषण कम होगा, समय की बचत होगी और जीवनशैली स्वस्थ होगी। उन्होने कहा कि एमिटी के छात्रों हेतु प्रथम राइड निशुल्क होगी और इसके उपरांत अत्यंत कम शुल्क में साइकिल सुविधा में उपलब्ध होगी ।


फैकल्टी मैनजमेंट स्टडीज के डीन एंव एमिटी बिजनेस स्कूल के निदेशक डा संजीव बंसल ने जानकारी देते हुए कहा कि साइकिल का उपयोग कई स्तरों पर छात्रों एंव हम सभी के लिए लाभदायक होगा। जहंा एक ओर इससे पर्यावरण सुरक्षित रहेगा, प्रदूषण उत्पन्न नही होगा वही दूसरी ओर साइकिल के उपयोग से हमारा शरीर भी स्वस्थ रहेगा। हम एमिटी विश्वविद्यालय में छात्रों को सदैव इस प्रकार की पहल के जरीए पर्यावरण के प्रति जागरूक करने एंव उनकी समाजिक जिम्मेदारी निर्वहन करने के लिए प्रेरित करते है। आज बढ़ रहे प्रदूषण का प्रभाव हमारे स्वास्थय पर पड़ रहा है इसलिए हमें स्वंय के लिए और अपनी आने वाली पीढ़ी के भविष्य हेतु अभी से यह कदम उठाने होगें। देश में अधिक से अधिक लोगों को साइकिल का प्रयोग करना चाहिए।

इस अवसर पर मोबाइसी के संस्थापक सुश्री राशी, एमिटी विश्वविद्यालय की श्रीमती छाया, कर्नल डी के शर्मा सहित एमिटी विष्वविद्यालय के अधिकारीगण भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *