मनोरंजन समाचार

दूसरे ग्लोबल साहित्यिक समारोह का आयोजन

दूसरे ग्लोबल साहित्यिक समारोह का आयोजन
नोएडा। हमारा साहित्य हमारे जीवन की वो पूंजी है जिसे जितना खर्च करो उतना ही बढ़ती जाती है हमारा हिंदी साहित्य जितना विशाल है उतना ही विशाल हमारे कवियों, लेखकों का हृदय भी विशाल है कि देवनागरी लिपि में उर्दू, अरबी, पश्तो व इंगलिश शब्दों को भी उतना ही सम्मान व सजावट के साथ सजाया है कि आज हम अपने साहित्य पर गर्व कर सकते हैं यह कहना था मारवाह स्टूडियो में आयोजित??
दूसरे ग्लोबल साहित्यिक समारोह के उद्घाटन के अवसर पर संदीप मारवाह का। साहित्य का जितना प्रचार सिनेमा ने किया है उतना किसी और क्षेत्र ने नहीं किया है।

????????????????????????????????????
????????????????????????????????????

 
इस अवसर पर दबंग, वांटेड, हेलो ब्रदर, तेरे नाम जैसी फिल्मों से जुड़े लेखक, गीतकार और कहानीकार जलीस शेरवानी, स्लोवानिया के राजदूत जोजेफ डरोफेनिक, मलावी के हाई कमीश्नर अल्फ्रेड विलइली, लेखक व कवि बुद्धिनाथ मिश्रा व पंकज के सिंह उपस्थित हुए। कहानीकार व गीतकार जलीस शेरवानी ने कहा साहित्य हमारे समाज का अभिन्न अंग हुआ करता था लेकिन आज वह उस मुकाम पर नहीं है जहां उसे होना चाहिए था। आज हम अपने हर प्रश्न का उत्तर गुगल से खोजते हैं जिससे हम पुस्तकों से दूर होते जा रहे हैं। मेरी यही कोशिश है कि आने वाले समय में हमारा साहित्य जीवित रहे। राजदूत जोजेफ डरोफेनिक ने कहा मुझे इस समारोह में आकर बहुत खुशी हुई। आज पूरे विश्व को शांति की जरूरत है और शांति तभी आ सकती है जब एक दूसरे देश की संस्कृति व साहित्य के बारे में जाने। अल्फ्रेड विलइली ने कहा भारत की संस्कृति बहुत विशाल है और आज के लेखकों में जितनी आधुनिकता भारतीय लेखकों में है उतनी कहीं नही मिलती। बुद्धिनाथ मिश्रा ने कहा साहित्य को हटाकर भाषा की बात करना वैसा ही है जैसे पानी को हटाकर प्यास की बात करना। यहां आने से पहले मुझे लगा था कि एक युवा स्टूडियो में आकर कौन साहित्य की बात करेगा लेकिन यहां आए हुए साहित्यकारों को देखकर मैं चकित रह गया। देश के सांस्कृतिक इतिहास में यह समारोह नया अध्याय है।

????????????????????????????????????
????????????????????????????????????

समारोह के पहले दिन भारत के कई राज्यों से साहित्यकार और 25 देशों के प्रतिनिधि उपस्थित हुए और अपने अपने विचार रखे। इस अवसर पर कई सेमीनार, कार्यशाला, नुक्कड़ नाटक, विदेशी भाषाओं में कविताएं, इकबाल कृष्ण की पेटिंग प्रदर्शनी के साथ साथ छात्रों द्वारा कई रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पंडित दीनदयाल उपाध्याय फोरम का भी पोस्टर लांच किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *