होम

दिल्ली से लंदन तक सड़क मार्ग से एक अनूठा फिल्म अभियान झंडी दिकाकर रवाना किया गया!

दिल्ली से लंदन तक सड़क मार्ग से एक अनूठा फिल्म अभियान झंडी दिकाकर रवाना किया गया!
यात्र 23,000 किलो मीटर | 23 देश | 46 शहर | 120 दिन

नई दिल्ली।क्रिएटिव कंसेप्ट्स फिल्म्स ने आज दिल्ली से एक महत्वपूर्ण यात्रा की शुरुआत की। यह एक महत्वपूर्ण यात्रा है जो दिल्ली से रवानाहोकर 23,000 किलोमीटर की दूरी तय करेगा। इसे जेन वी कहा जाएगा। लंदन तक की यात्रा के दौरान इस टीम के लोग एशिया और यूरोप के 23 देशों से होतेहुए गुजरेंगे और फिल्म क्षेत्र के लोगों से मिलेंगे उन्हें जानेंगे और फिल्म उद्योग को इस स्तर पर समझने के प्रयास करेंगें।यात्रा की शुरुआत के मौके पर आज का आयोजन गुरुद्वारा नई दिल्ली में बांग्ला साहेब जी के मुख्य गेट पर सवेरे 11:30 बजे एक आयोजन हुआ। यह अशोक रोडकी तरफ वाईडब्ल्यूसीए बिल्डिंग के पास स्थित है। इस मौके पर दिल्ली सुख गुरदवारा प्रबंधक समिति के सरदार मंजीत सिंह जी, जीके, मुख्य अतिथि थे।  धर्म प्रचार कमेटी के राणा परमजित सिंह भी इस मौके पर मौजूद थे।इस यात्रा पर फिल्म के प्रोड्यूसर अमरजीत सिंह चावला, निर्देशक करण दार्रा, डीओपी लुकमान मलिक  और चालक निदि तिवारी इस यात्रा पर जाने वालों में करण दार्रा वा प्रोड्यसर अमरजीत सिंह चावला भी हैं। इसके अलावा जो अन्य लोग  शामिल थे उनमें चालक निधि तिवारी भी हैं।इस परियोजना का नाम है जेन वी (जेनरेशन वीडियो)। यह एक ऐसी श्रृंखला है जो चार बागियों के जोखिमों
और अनुभवों को दर्ज करेगा। ये ऐसे बागी हैं जो मानते हैं कि दुनिया विजुअल कंटेंट का उपयोग करता है और इसकी रचना करता तथा अच्छे के लिए बदल रहाहै। इस तरह, आज की नई पीढ़ी को अवंत गार्डे फिल्म निर्माता के रूप में स्थापित किया जा रहा है।इस मौके पर मुख्य अतिथि मंजीत सिंह जीके ने कहा,ऐसा अक्सर नहीं होता है कि आपको किसी ऐतिहासिक कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाए।इसपरियोजना ने मुझे अवधारणा के चरण से ही उत्साहित किया है और मुझे यह देखकर खुशी हो रही है कि अब यह एक वास्तविकता बन रही है।” क्रिएटिव कंसेप्ट्स फिल्म्स के संस्थापक श्री अमरजीत सिंह चावला ने कहा,“मैं इस यात्रा को लेकर बेहद उत्साहित हूं क्योंकि यह बिल्कुल वैसी ही परियोजना हैजिसके लिए मैंने अपनी कंपनी, क्रिएटिव कंसेप्ट्स फिल्म्स की स्थापना की है।”निर्देशक करण दार्रा ने कहा,“मैं मुख्यधारा के फिल्मनिर्माण क्षेत्र से आता हूं और मैंने अपना काम यहीं सीखा है पर जबसे मैंने स्वतंत्र रूप से कंटेंट तैयार करनेके क्षेत्र को जानना शुरू किया है, इससे अच्छा कुछ भी नहीं महसूस हुआ है।”वीमेन बेयांड बाउंड्रीज की संस्थापक निधि तिवारी ने इस बारे में कहा, “मैंने इस रूट (यूरो एशिया ट्रेल) पर पहले भी यात्रा की है पर तब ऐसा कोई मकसद नहींथा। मैं सड़क पर वापस यह देखने के लिए नहीं जा सकता कि सब कुछ कैसे चल रहा है।” लुकमान मलिक. डीओपी ने कहा, “पहली बार जब मुझे इस परियोजना के बारे में बताया गया तो मैं इस पर यकीन नहीं कर पाया। अब जब वास्तविकता यहां हैतब भी मैं इसपर विश्वास नहीं कर पा रहा हूं।”इस टीम के लोगों की मुलाकात गुजरने वाले हरेक देश में मुख्यधारा के फिल्म निर्माताओं से लेकर स्वतंत्र फिल्म पेशेवरों से होगी। वहां ये इनसे बातीत करेंगेऔर जानना चाहेंगे कि इस डिजिटल जमाने में फिल्म की संस्कृति उसे देखना और तैयार करना – वह भी अलग-अलग देशों में कैसा है। यह यू ट्यूब पर छोटीसामग्री के जरिए है या फिर डायरेक्ट टू डिजिटल स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म जैसे नेटफ्लिक्स और अमैजन प्राइम पर लंबी सामग्री है।जैसा कि शाहरुख खान ने खुद कहा है, “डिजिटल विश्व में आईडिया के आसान प्रवाह के कारण सत्ता या ताकत सिर्फ बड़े प्रोडक्शन संस्थान के हाथों में सीमितनहीं रहेगी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *