शिक्षा/टेक्नालाजी समाचार होम

क्वीनसलैड विश्वविद्यालय के प्रो फाफ रॉर्बट विलियम ने छात्रों को शोध के लिए किया प्रोत्साहित

क्वीनसलैड विश्वविद्यालय के प्रो फाफ रॉर्बट विलियम ने छात्रों को शोध के लिए किया प्रोत्साहित
नोएडा (अनिल दुबे)। एमिटी विश्वविद्यालय द्वारा संचालित किये जा रहे शोध कार्यक्रमों से प्रभावित होकर आज आस्ट्रेलिया के क्वीनसलैंड विश्वविद्यालय के निदेशक – शोध प्रो फाफ रॉर्बट विलियम ने एमिटी विश्वविद्यालय का दौरा किया। इस अवसर पर प्रो फाफ रॉर्बट विलियम ने विशेष अंर्तराष्ट्रीय व्याख्यान समारोह में छात्रों को पिचिंग रिर्सच विषय पर आई टू ब्लाक मूर्ट कोर्ट हॉल, एमिटी विश्वविद्यालय में व्याख्यान भी दिया। एमिटी विश्वविद्यालय के गु्रप वाइस चांसलर डा गुरिंदर सिंह, एमिटी इंटरनेशनल बिजनेस स्कूल की डा भावना कुमार ने प्रो फाफ रॉर्बट विलियम का स्वागत किया। आस्ट्रेलिया के क्वीनसलैंड विश्वविद्यालय के निदेशक -शोध प्रो फाफ रॉर्बट विलियम ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि शोध हमेशा प्रासंगिक और सार्थक होना चाहिए। षोध पचास पेजों की बजाय दो पेज का, 3000 शब्दों की बजाय 1000 षब्दों का एंव बिना किसी उपर्शीष की बजाय लघु, सरल, व्यवस्थित, स्पष्ट होना चाहिए। प्रो विलियम ने कहा कि शोध का रूपरेखा 4.3.2.1 पर आधारित होती है। जिसमें 4 में कार्य का शीर्षक, बुनियादी शोध प्रश्न, मुख्य कागजात, प्रेरक या पहेली शामिल है। किसी भी शोध के 3 मुख्य पहलू है जिसमें विचार या आइडिया, डाटा एंव टूल है। विचार – विशेषता क्या है और हमें अपने प्रश्नों का उत्तर किस प्रकार प्राप्त हो। डाटा – किस प्रकार के डाटा का आप उपयोग करेंगे जैसे विश्लेषण की एकता, नमूना अवधि, डाटा की किस्म, डाटा का आकार आदि। उन्होनें कहा कि शोध में 2 प्रमुख प्रश्न है। नया क्या – हम कौन सी नई तकनीक विकसित कर रहे है। तो क्या – शोध का उत्तर जानना क्यो आवश्यक है। 1 के अंर्तगत – क्या नया और तो क्या का मिश्रण जिससे नये दरवाजे खुलेंगे। प्रो विलियम ने कहा कि बातचीत, संक्षिप्तता एंव सरल ये तीन शोध की शक्ति है। उन्होने छात्रों को शोध करके देष के विकास मे सहायक होने के लिए प्रेरित भी किया। एमिटी विश्वविद्यालय के गु्रप वाइस चांसलर डा गुरिंदर सिंह ने अतिथियों को संबोधित करते हुए कहा कि षोध एमिटी विश्वविद्यालय के डीएनए में है। आपके सामने उपस्थित ये छात्र षोध के क्षेत्र में कार्य करना चाहते है और इनका यहां मौजूद होना इनके कार्य के प्रति सर्मपण का दर्शता है। एमिटी मे हम छात्रों को शोध के लिए पे्ररित करते रहते है। एक अच्छा शोध न केवल व्यक्ति, समाज वर्न विष्व के लोगो के लिए सहायक होता है। इस अवसर पर एमिटी इंटरनेशनल बिजनेस स्कूल सहित एमिटी विश्वविद्यालय के अन्य शिक्षकगण एंव छात्र उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *