खेल

कैरोलिन बुकानन की नजरें अब ओलिंपिक स्वर्ण पदक पर

कैरोलिन बुकानन की नजरें अब ओलिंपिक स्वर्ण पदक पर
सिडनी।  काफी चर्चित महिला एथलीट बीएमएक्स चैंपियन कैरोलिन बुकानन की नजरें अब ओलिंपिक स्वर्ण पदक पर है। उनके इस ओर बढ़ते हर कदम को फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर और यू-ट्यूब पर देखा जा सकता है। वह हैं, जिनके फेसबुक पर 95 हजार फॉलोअर्स हैं, इंस्टाग्राम पर 50 हजार, ट्विटर पर 16 हजार और यू-ट्यूब पर अनगिनत फॉलोअर हैं। यह किसी भी आॅस्ट्रेलियाई महिला एथलीट के लिहाज से बड़ी बात है। उनके फॉलोअर्स न केवल उनकी स्पर्धाओं के बारे में जानकारी हासिल करते हैं बल्कि उनके जीवन में होने वाली तमाम घटनाओं की जानकारी उन्हें मिलती है। यह जानकारी वे अपने प्रशंसकों के लिए छोटी खबरों के जरिए देती हैं।  इसमें वह अपने प्रायोजकों के उत्पादों पर भी राय जाहिर करती हैं। इसी के जरिए वे अन्य प्रायोजकों को भी अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं। सोशल मीडिया की एक मार्केटिंग एजेंसी के सीईओ के अनुसार, लोग ऐसी खबरें देखते हैं और महिला एथलीट के साथ जुड़ा चाहते हैं। ऐसे में उनकी दर्शकदीर्घा बढ़ रही है। मार्केटिंग की भाषा में बुकानन सोशल मीडिया से प्रभावित करने वाली बन चुकी है।
बुकानन इस साल दो में से दो विश्व बीएमएक्स साइक्लिंग चैंपियनशिप जीत चुकी हैं। वह 2012 लंदन ओलिंपिक में फाइनल तक पहुंची थीं। बुकानन के पास इस समय सोनी, हार्ले डेविसन, डीके, मैक्सिस टायर्स, ओकले जैसे बड़े ब्रांड हैं। उनका आईएमजी के साथ भी अनुबंध है।
कैरोलिन बुकानन का कहना है कि बचपन में मैं घंटों लिंकेडिन पर रहती थी और लोगों से जुड़कर उनसे बात करती थी। उस समय मैं सोचा करती थी कि मैं यह क्यों कर रही हूं। जब मैं बीएमएक्स से जुड़ी तो लोगों ने मुझसे कहा कि जाओ और रेस जीतो और तुम खुद को पेशेवर एथलीटों कहलाओगी।
महिला एथलीटों के लिए यह इसलिए भी थोड़ा मुश्किल है क्योंकि लोगों की मानसिकता अलग है। पेशेवर युग में भी एथलीट अपने प्रायोजकों के ब्रांड पर यदि काम करते हैं तो उसे अलग नजरिए से देखा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *