समाचार स्वास्थ्य

कैडिला फार्मास्युटिकल प्राइवेट लिमिटेड एंव एमिटी विष्वविद्यालय के मध्य समझौता पत्र हस्ताक्षर

कैडिला फार्मास्युटिकल प्राइवेट लिमिटेड एंव एमिटी विष्वविद्यालय के मध्य समझौता पत्र हस्ताक्षर
नोएडा (अकांक्षा)। एमिटी विश्वविद्यालय की शिक्षण गुणवत्ता से प्रभावित होकर संयुक्त शोध, छात्रों के प्रशिक्षण एंव रोजगार तथा सुंयक्त पीएचडी कार्यक्रम आदि हेतु आज कैडिला फार्मास्युटिकल  प्राइवेट लिमिटेड – बायोलॉजिकल्स के मध्य समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किया गया। इस समझौता पत्र पर एमिटी शिक्षण समूह के संस्थापक अध्यक्ष डा अशोक कुमार चैहान के मार्गदर्शन  में  कैडिला  फार्मास्युटिकल  प्राइवेट  लिमिटेड  बायोलॉजिकल्स  के  अध्यक्ष अतिन तोमर एंव एमिटी विश्वविद्यालय उत्तरप्रदेश के कुलसचिव डा बी एल आर्या, एमिटी इंस्टीटयूट  आॅफ  बायोटेक्नोलॉजी  के  निदेषक  डा  चंदरदीप  टंडन  ने  हस्ताक्षर  किये।  इस अवसर पर कैडिला फार्मास्युटिकल प्राइवेट लिमिटेड – बायोलॉजिकल्स के उपाध्यक्ष एंव आर एंड डी हेड डा नीरव देसाई, एमिटी सांइस टेक्नोलॉजी एंड इनोवशन फांउडेशन के अध्यक्ष डा डब्लू सेल्वामूर्ती, एमिटी विष्वविद्यालय की वाइस चांसलर डा (श्रीमती) बलविंदर षुक्ला
भी उपस्थित थी।  कैडिला  फार्मास्युटिकल  प्राइवेट  लिमिटेड  –  बायोलॉजिकल्स  के  अध्यक्ष  श्री  अतिन तोमर ने कहा कि इस  समझौते  पत्र  से संस्थाओं  के  साथ  साथ  छात्रों को  भी  बहुत  लाभ होगा।  कैडिला  फार्मास्युटिकल  प्राइवेट  लिमिटेड  –  बायोलॉजिकल्स  के  बारे  में  बताते  हुए  अतिन तोमर ने कैडिला फार्मास्युटिकल प्राइवेट लिमिटेड द्वारा होने वाले भविष्य के कार्यो पर प्रकाश डाला। इसके अलावा उन्होने एमिटी इंस्टीट्यूट आॅफ बायोटेक्नोलॉजी के छात्रों को कैडिला  फार्मास्युटिकल  प्राइवेट  लिमिटेड  –  बायोलॉजिकल्स  के  शोध  कार्य  में  हिस्सा  लेने आमंत्रित किया जिससे दोनो संस्थाओं द्वारा जीव विज्ञान के शोध की गुणवक्ता को विकसित किया जा सके। एमिटी शिक्षण समूह के संस्थापक अध्यक्ष डा अशोक कुमार चैहान ने अतिथियों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों के विकास हेतु आवश्यक है कि षिक्षण संस्थानों को इस बात की जानकारी हो कि उद्योगो की अपेक्षायें क्या है। आज फार्मास्युटिकल उद्योग को युवा मस्तिष्कों की आवष्यकता है, जिससे उन्नत दवायें कम दाम मे सभी के लिए उपलब्ध हो। डा चैहान ने कहा कि यह समझौता पत्र छात्रों, संस्थानों एंव उद्योग सभी के लिए लाभवर्धक होगा। उन्होने कहा कि शिक्षा तभी सार्थक है जब उसका लाभ समाज के वंचित एंव उपेक्षित व्यक्ति को प्राप्त हो इसलिए हम छात्रों को सदैव नेक कार्यो के लिए प्रोत्साहित करते है।
एमिटी इंस्टीटयूट आॅफ बायोटेक्नोलॉजी के निदेषक डा चंदरदीप टंडन ने जानकारी देते  हुए  कहा  कि  कैडिला  फार्मास्युटिकल  प्राइवेट  लिमिटेड  एक  जानी  मानी  कंपनी  है। समझौते पत्र पर हस्ताक्षर होने से पहले हमारे स्नातकोत्तर कार्यक्रम के पांच छात्र कैडिला फार्मास्युटिकल प्राइवेट लिमिटेड – बायोलॉजिकल्स में नौकरी कर रहे है। इस  अवसर  पर  एमिटी  विश्वविद्यालय  के  शिक्षकगण, शोधार्थि  एंव  अधिकारीगण उपस्थित थे।
——

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *