शिक्षा/टेक्नालाजी समाचार

काले धन को विदेश से लकेर आना होगा – श्री राम जेठमलानी, पूर्व सांसद, वकील, प्रोफेसर

गुरूग्राम –राष्ट्रीय मूट कार्ट प्रतियोगिता में 150 से अधिक विद्यार्थी भाग ले रहे है। तीन दिन चलने वाले मूट कोर्ट कंपीटीशन का आज पहला दिन था। राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर श्री राम जेठमलानी और श्रीमती एमिटी युनिवर्सिटी गुरूग्राम में  तृतीय राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिता का शुभारंभ

देश भर से आए 40 संस्थानों ने लिया भाग

काले धन को विदेश से लकेर आना होगा – श्री राम जेठमलानी, पूर्व सांसद, वकील, प्रोफेसर

मेरी रिटायरमेंट से शायद काफी लोगों ने राहत की सांस ली होगीश्री राम जेठमलानी

एमिटी युनिवर्सिटी गुरूग्राम के एमिटी लॉ स्कूल में तृतीय राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिता का शुभारंभ किया गया। तीन दिन चलने वाली  रूबी यादव, मिस एशिया पैशिफिक, पद्मश्री टी के विश्वनाथन और श्रीमती सुष्मा साहु, मेम्बर, नेश्नल वूमन फॉर कमीशन ने किया।

मूट कोर्ट   में वाद विवाद का विषय मैरिटल रेप, घरेलू हिंसा और बाल विवाह है जिसपर पूरे देश से आए प्रतिभागी भाग लेंगे। प्रतियोगिता में लगभग 150 से अधिक विद्यार्थियों ने अपने अपने संस्थानों का नाम रोशन करने के लिए 9 से 11 मार्च तक मूट कोर्ट प्रतियोगिता में अपनी दावेदारी पेश करेंगे। जीतने वाली टीम को प्रमाण पत्र और गोल्ड मेडल से नवाजा जाएगा। प्रतियोगिता की इनामी राशि कुल 3,00,000 है जिसको जीतने वाले प्रतियोगियों में वितृत किया जाएगा।प्रतियोगिता में विद्यार्थियों का मनोबल बढ़ाते हुए श्री राम जेठमलानी  ने कहा कि मैं बहुत खुश होता हूं जब भी युवाओं के बीच आने का मौका मिलता है। मूट कोर्ट प्रतियोगिता में जब भी आने का मौका मिलता है तो मुझे मेरी जवानी के दिन याद आते है। एक वकील को कोई डर नहीं होना चाहिए (Lawyer should fear none)।मुझे लॉ प्रेक्टिस करते करीब 7 दशक बीत गए है, मेरी रिटायरमेंट से शायद काफी लोगों ने राहत की सांस ली होगी। विदेशों में जमा काले धन को वापिस लाने के लिए हम सबको लड़ाई लड़नी चाहिए, ताकि विदेशों में जमा धनराशि देश में वापिस आ सके औऱ देश की तरक्की हो सके।विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए पद्म श्री डॉ टी के विश्वनाथन ने कहा कि मेरी पूरी उम्र वकालत में बीती है, और में हमेशा लॉ का विद्यार्थी रहूंगा। लॉ को समय और टेक्नोलोजी के साथ बदलना चाहिए।विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए सुष्मा साहु ने कहा कि विद्यार्थी पहले समय के मुकाबले अब ज्यादा समझदार हो रहे है, पर औरतों के खिलाफ क्राईम हर साल बढ़ रहा है हमें इस और ध्यान देना चाहिए। युवाओं को मिलकर इसके खिलाफ आवाज उठानी चाहिए औऱ वूमन अगेंस्ट क्राईम (women against crime) को ज़ड़ से खत्म करना चाहिए।विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए रूबी यादव ने कहा कि लॉ देश में एक पॉजिटीव समाज बनाने में सहायता करता है। वकालत की मदद से औरतों के लिए सुरक्षित औऱ बेहतर ईंवायरमेंट बना सकते है।  तीन दिन चलने वाली इस प्रतियोगिता से जहां विद्यार्थियों को वकालत की बारिकियों का पता चलेगा वहीं दूसरी और बाहर से आई 40 टीमों के प्रतियोगियों को एक दूसरे से काफी कुछ सीखने को मिलेगा। इस प्रतियोगिता को लेकर विद्यार्थियों में काफी उत्सुकता है। आठ लॉ युनिवर्सटी, गर्वमेंट कॉलेज मुंबई, आईएलएस पूणे, दिल्ली युनिवर्सिटी, अलिगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी आदि इस प्रतियोगिता में भाग ले रहे है।शुभारंभ समारोह पर मेजर जनरल बी एस सुहाग (रिटायर्ड), मेजर जनरल जी एस बल (रिटायर्ड), मेजर जनरल पी के शर्मा (रिटायर्ड), स्कवार्डन लीडर एस के सिंह (रिटायर्ड), कर्नल हरबंस (रिटायर्ड), प्रांशुल पाठक मे प्रांशुल पाठक, मोनिका यादव, नेहा पाठक मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *