विश्व समाचार समाचार

ओबामा की सऊदी को धमकी, कहा 11 सितंबर की घटना पर कर देंगे वीटो

अमेरिका। राष्ट्रपति ओबामा ने उस बिल को वीटो कर देने की धमकी दी है कि 11 सितंबर 2001 के आतंकवादी हमले में सऊदी शाही परिवार के सदस्यों की संलिप्तता की स्थिति में उन्हें अमरीकी कोर्ट में हाजिर करने की अमरीकियों को इजाजत दिए जाने की मांग की गयी है।
वाइट हाउस के प्रवक्ता जॉश अर्नेस्ट ने सोमवार को कहा कि चिंताजनक बिन्दुओं की लंबी सूचि के मद्देनजऱ। मैं यह कह चुका हूं कि उस स्थिति की कल्पना करना मुश्किल है जिसमें राष्ट्रपति उस बिल पर दस्तख़त करें जिसे तय्यार किया जा रहा है।
इस विधेयक को डेमोक्रेटिक सेनेटर चक शूमर और रिपब्लिकन सेनेटर जॉन कॉर्निन ने पेश किया है। अगर यह बिल पास हो गया तो अमरीका की धरती पर किसी आतंकवादी हमले में किसी अमरीकी के मारे जाने की स्थिति में, विदेशी सरकारों से अमरीका की अदालती कार्यवाही से मुक्ति की सुविधा ख़त्म हो जाएगी। जॉश अर्नेस्ट ने कहा कि इस बिल से अमरीकियों के लिए विदेश में ख़तरा पैदा हो जाएगा क्योंकि दूसरे राष्ट्र भी जवाबी कार्यवाही करते हुए ऐसे क़ानून पास करांएगे।
दूसरी ओर न्यूयॉर्क टाइम्ज़ की रिपोर्ट के अनुसार, सऊदी अरब ने इस बिल के कांग्रेस द्वारा पास किए जाने की स्थिति में अमरीका में मौजूद अपनी 750 अरब डॉलर की संपत्ति बेचने की धमकी दी है।
जॉश अर्नेस्ट ने इस संदर्भ में सऊदी सरकार को इस तरह का कदम उठाने की ओर से सचेत किया है। उन्होंने कहा कि बड़ी व आधुनिक अर्थव्यवस्था से संपन्न सऊदी अरब जैसे देश को अंतर्राष्र्टीय वित्तीय बाजार को अस्थिर करने से कोई फायदा नहीं होगा और न ही अमरीका को।
अमरीका के अनेक सांसदों ने वाइट हाउस से उन दस्तावेजों को सार्वजनिक करने की मांग की है जिससे 11 सितंबर 2001 के आतंकवादी हमले में सऊदी अरब की संभावित संलिप्तता का पता चल सकता है।
अमरीकी कांग्रेस के पूर्व सदस्यों का कहना है कि 28 गोपनीय पन्नों से पता चलता है कि 2 सऊदी नागरिकों को जो 9/11 के हमले में लिप्त थे, अमरीका में रहने के दौरान रियाज से मदद व समर्थन मिला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *