विश्व समाचार समाचार

ओआईसी शिखर बैठक के घोषणापत्र पर ईरान की आपत्ति

इस्तंबूल। ईरान ने इस्तंबूल में इस्लामी सहयोग संगठन ओआईसी के शिखर सम्मेलन के अंतिम बयान पर आपत्ति जताते हुए बैठक के अंतिम सत्र का बहिष्कार किया। प्रेस टीवी के अनुसार इस्तंबूल में इस्लामी सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन का अंतिम सत्र ऐसी स्थिति में आयोजित हुआ जब ईरान के राष्ट्रपति डॉक्टर हसन रूहानी और विदेश मंत्री मुहम्मद जवाद जरीफ ने उसमें भाग नहीं लिया। ईरान ने ओआईसी के शिखर सम्मेलन के घोषणापत्र में ईरान और लेबनान के हिज्बुल्लाह संगठन के खिलाफ कुछ प्रावधान शामिल किए जाने पर गहरी आपत्ति जताते हुए अंतिम सत्र में भाग न लेने का फैसला किया। जायोनी लॉबी के दबाव में ओआईसी के शिखर सम्मेलन के घोषणापत्र में ईरान और हिज्बुल्लाह के खिलाफ कई प्रावधानों को शामिल किया गया है। ईरान के उप विदेश मंत्री सैयद अब्बास इराकची ने बैठक से पहले अपने बयान में कहा था कि इस्लामी सहयोग संगठन अपनी ईरान विरोधी नीति पर लज्जित होगा। तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोगान ने, जिनका देश शुक्रवार से ओआईसी की अध्यक्षता संभाल रहा है, सम्मेलन के अंतिम सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि इस बैठक के फैसलों से मुसलमानों में विकास, कल्याण, न्याय और शांति की उम्मीदें पैदा होंगी। उन्होंने शिखर सम्मेलन के घोषणापत्र को पढ़े बिना कहा कि यह सम्मेलन संगठन के सदस्य देशों के बीच एकता, एकजुटता और सहयोग के नारे के अंतर्गत आयोजित हुआ है। उल्लेखनीय है कि ईरान के राष्ट्रपति डॉक्टर हसन रूहानी ने गुरुवार को ओआईसी के शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था कि ओआईसी में फूट डालने के प्रयास निंदनीय हैं और इस्लामी देशों के बीच मौजूद मतभेदों और गलतफहमियों को कूटनीति के माध्यम से दूर किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *