समाचार

एमिटी विश्वविद्यालय में वार्षिक कला उत्सव क्रियेटिव” 2017 का आयोजन

नोएडा (अकांक्षा)। एमिटी स्कूल ऑफ फाइन आर्ट द्वारा तीन दिवसीय वार्षिक कला उत्सव ” क्रियेटिव 2017ÓÓ का आयोजन आई टू ब्लाक, एमिटी विश्वविद्यालय कैंपस नोएडा में किया गया। इस अवसर पर एमिटी स्कूल ऑफ फाइन आर्ट के छात्रों द्वारा बनाए गए मॉडल, चित्रों डिजिटल आर्ट, स्टीकर, पेटिंग शेडिंग, मैट पेंटिग, थ्रीडी पेटिंग आदि की प्रदर्शनी भी लगाई गई जो मार्च 23- 2017 तक चलेगी। इस क्रियेटिव 2017 का शुभारंभ प्रसिद्ध कलाकार किशन अहुजा एंव श्री नीरेन सेनगुप्ता , फिक्की की पूर्व अध्यक्ष डा अर्चना गारोडिया, फिक्की के स्वैम की अध्यक्ष पवन जैन, एमिटी स्कूल ऑफ फाइन आर्ट एंड एमिटी स्कूल ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी की चेयरपरसन दिव्या चैहान एंव एमिटी विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश की वाइस चांसलर डा (प्रोफेसर) बलविंदर शुक्ला ने पांरपरिक दीप जलाकर किया।

इस कला उत्सव में छात्रों द्वारा मूर्ति कला, फोटोग्राफी, स्थापन आर्ट, ऐक्रोलिक रंगो का उपयोग करके समाजिक मुद्दे जैसे महिला शक्तिकरण पर आधारित चित्र, विज्ञापन, रंगीन पेपर द्वारा बनाये गये चित्र प्रस्तुत किए। साथ ही कैलेंडर, स्केच पेटिंग, डिजिटल एंव मैट पेटिंग, विज्ञापन शूट, एनीमेशन, मूर्ति कला, मोम का मॉडल आदि छात्रों द्वारा बनाए गए मॉडल प्रस्तुत किए।
बैचलर ऑफ फाइन आर्टस के तीसरे वर्ष की छात्र पावनी नागपाल ने बताया कि उन्होने अपने द्वारा तैयार किए गए कला वस्तु का नाम जिंद्दी दिल रखा है। जिसमें उन्होने महिलाओं के अनेक रूपों को दर्शाया है। उन्होने बताया कि उन्होने इस विषय का चुनाव इसलिए किया क्योकि वह सबको बताना चाहती है कि महिलाओं को किसी से कम न समझा जाए अगर महिलाओं के साथ कुछ गलत होगा तो महिलाएं हक के लिए लड़ाई लडेगी।
प्रसिद्ध कलाकार नीरेन सेनगुप्ता ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि अपनी सोच को कागज पर उतारना रचनात्मकता का अर्थ है न कि किसी कला की नकल करना। हमारे और आपके समय में बहुत अंतर है। इन दिनों लोग कला के लिए तकनीक का भी प्रयोग करते है जैसे लैपटॉप, पर जरूरी है कि हम किताब का भी इस्तेमाल करे। रंगों से हमें ताकत प्राप्त होती है इसे सही प्रकार से इस्तेमाल करे।
एमिटी स्कूल ऑफ फाइन आर्ट एंड एमिटी स्कूल ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी की चेयरपरसन सुश्री दिव्या चैहान ने अतिथियों को स्वागत करते हुए कहा कि यह हमारे छात्रों के लिए काफी प्रसन्नता का दिन है जब फाइन आटज़् क्षेत्र के विशेषज्ञों एंव कलाकारों से उन्हे मिलने मौका मिला। हर छात्र द्वारा इस प्रदर्शनी मे दी गई प्रस्तुती ने एक समाजिक संदेश दिया है।
प्रसिद्ध कलाकार किशन अहुजा ने कहा कि आप सभी बेहद सौभाग्यशाली है कि आपको छात्र स्तर पर ही अपनी कला की प्रस्तुत करने का अच्छा मंच प्राप्त हुआ है। आज भी ऐसे कई कलाकार है जो अपनी प्रतिभा को सही मंच पर नहीं ला पाते है। उन्होने एमिटी के छात्रों को इस कार्यक्रम के लिए बधाई भी दी।
फिक्की की पूवज़् अध्यक्ष डा अर्चना गारोडिया ने कहा कि आप सभी का कार्य देख कर लगता है जैसे की पशेवरों की कला हो। उन्होने महिलाओं छात्रों से अनुरोध किया की कभी अपनी प्रतिभा को कम न होने दे। अक्सर लड़कियां गुहस्थ जीवन के कारण अपनी प्रतिभा को भूल जाती पर आप सभी ऐसा न करे क्योकि आपकी खुशी भी उतनी जरूरी है जितनी पुरुषों एंव घर के अन्य सदस्य के लिए है।
इस कार्यक्रम के दौरान एमिटी स्कूल ऑफ फाइन आर्ट एंव एमिटी स्कूल ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी के निदेशक डा प्रदीप जोशी, एमिटी विश्वविद्यालय की डायेक्टर एकेडमिकक्स डा अलका मुजांल भी उपस्थित थे। इस अवसर पर एमिटी विश्वविद्यालय के शिक्षकगण एंव अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *