समाचार

एमिटी विवविद्यालय में फंक्षनल नैनोमटेरियलस : इमर्जिंग टेज्डेंस एंड

एमिटी विवविद्यालय में फंक्षनल नैनोमटेरियलस : इमर्जिंग टेज्डेंस एंड
एप्लीकेशन विषय पर फैकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम का शुभारंभ
नोएडा (अनिल दुबे)। एमिटी  इंस्टीटयूट  आॅफ  नैनोटेक्नोलॉजी द्वारा एमिटी स्टाफ कॉलेज के सहयोग से  फंक्षनल नैनोमटेरियलस – इमर्जिंग ट्रेंडस एंड  एप्लीकेशन विषय पर त्रिदिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम का आयोजन एफ वन सेमिनार हॉल, एमिटी विश्वविद्यालय में
किया गया। इस कार्यक्रम का शुभारंभ डीआरडीओ के सॉलिड स्टेट फिजिक्स लैबोरेटरी के निदेषक डा आर के शर्मा, एमिटी इंस्टीटयूट आॅफ नैैनोटेक्नोलॉजी के निदेषक डा डी के अवस्थी एंव एमिटी इंस्टीटयूट आॅफ एडवांस रिर्सच एंड स्टडीज (मटैरियल एंड डिवाइस) के निदेशक डा वी के जैन ने किया।  डीआरडीओ के  सॉलिड  स्टेट  फिजिक्स  लैबोरेटरी के निदेषक  डा  आर  के  शर्मा  ने शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि लगभग पिछले एक दषक से नैनोटक्नोलॉजी के क्षेत्र में काफी विकास हुआ है। नैनोटेक्नोलॉजी ने लगभग सभी क्षेत्रों को प्रभावित किया है और  उद्योग  क्षेत्र  भी  इससे  काफी  प्रभावित  हुए  है। उन्होनें कहा कि नैनोटेक्नोलॉजी में शोधार्थियों एंव वैज्ञानिकों के लिए शोध की अपार संभवानाए एंव अवसर उपलब्ध इस लिए हमें छात्रों को शोध हेतु प्रोत्साहित करना चाहिए। डा शर्मा ने कहा कि डीआरडीओ के अंर्तगत सैन्य सेवाओं के क्षेत्र में हुए कई शोधों मे भी नैनोटेक्नोलॉजी का काफी महत्व रहा है जैसे रडार, मिसाइल एप्रोच वार्निंग सिस्टम, आधुनिक मिसाइल एंव टैंक सभी में उपयोग आने वाले सेंसर का उपयोग, एरोनॉटिक्स, इंडियन मिसाइल सोकेष की कई तकनीकों में भी  नैनोटेक्नोलॉजी का उपयोग हुआ है। इसके अतिरिक्त नेवल सिस्टम जैसे अंडरवाटर
सेंसर एंव हथियार, फिलिट सर्पोट सिस्टम सहित जीवन विज्ञान के क्षेत्र जैसे सैनिकों के स्वास्थय, सुरक्षा एंव सफाई आदि में  नैनोटेक्नोलॉजी  के शोध उत्पाद सफल रहे है। इस अवसर पर डा  शर्मा  ने  सॉलिड  स्टेट  फिजिक्स लैबोरेटरी  द्वारा  सेंसर,  पीवीटी, फंक्षनल मटेरियल, मटेरियल कैरक्टराइजेशन पर किये जा रहे कार्य एंव सेमिकंडक्टर एन स्ट्रक्चर की मोलक्यूलर बीम एपीटेक्सी  एंव मेटल आॅरगेनिक वेपर फेस एपीटेक्सी के बारे में
जानकारी भी दी। एमिटी इंस्टीटयूट आॅफ नैैनोटेक्नोलॉजी के निदेशक डा डी के अवस्थी ने अतिथियों को संबोधित करते हुए कहा कि हम छात्रों को शिक्षण प्रदान करते है लेकिन इसके साथ ही हमें भी क्षेत्र में हो रही नवीनतम प्रगति की जानकारी होनी चाहिए, जिससे हम छात्रों को नई जानकारीयां उपलब्ध करा सके। एमिटी द्वारा आयोजित यह कार्यक्रम आपके ज्ञान वृद्धि में सहायक होगा। डा अवस्थी ने एमिटी इंस्टीटयूट आॅफ नैैनोटेक्नोलॉजी द्वारा संचालित किये
जा रहे पाठयक्रम सहित पब्लिकेशन, प्रोजेक्ट एंव पेटेंट की जानकारी भी दी।
तकनीकी सत्र के अंर्तगत आईआईटी दिल्ली के फिजिक्स के प्रोफेसर बी आर मेहता ने 2डी -3डी, 2डी- 2डी, इंटरफेस फॉर जंक्षन डिवाइस, सोलर सेल, थर्मोइलेक्ट्रीक एंव फोटोइलेक्ट्रीक डिवाइस पर जानकारी देते हुए थिन फिल्म, नैनोपार्टिकल, 2डी मैटेरियल, केपीएफएम बेस्ड मैपिंग के बारे मे बताया।
इस अवसर पर एमिटी इंस्टीटयूट आॅफ नैैनोटेक्नोलॉजी  की डा ऋचा कृष्णा सहित कई शिक्षकगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *