शिक्षा/टेक्नालाजी समाचार

एमिटी यूनिवर्सिटी में करेंट ट्रेंड इन लाइफ साइंसेज विषय पर राष्ट्रीय सेमीनार आयोजित

एमिटी यूनिवर्सिटी में करेंट ट्रेंड इन लाइफ साइंसेज विषय पर राष्ट्रीय सेमीनार आयोजित
ग्वालियर (सुनील गोयल)। एमिटी इंस्टिट्यूट आॅफ बायोटेक्नोलॉजी, एमिटी यूनिवर्सिटी ग्वालियर के महाराजपुरा स्थित कैंपस में, ह्लकरेंट ट्रेंड इन लाइफ साइंसेजह्व विषय पर राष्ट्रीय सेमीनार का आयोजन किया गया, जिसकी शुरूआत मुख्य अतिथि                   प्रो. डॉ आर. जे. राव (उपकुलपति जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर), लेफ्टिनेंट जनरल वी के शर्मा, माननीय कुलपति एमिटी विश्वविद्यालय ग्वालियर, एवं प्रोफेसर (डॉ.) राजेश सिंह तोमर, निदेशक, एमिटी जैव प्रौद्योगिकी संस्थान तथा डीन (एकेडेमिक्स), एमिटी विश्वविद्यालय, ग्वालियर (संयोजक राष्ट्रीय सेमिनार) एवं अन्य उपस्थित अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलन व सरस्वती वन्दना से की गई.
कार्यक्रम की शुरूआत अतिथियों के स्वागत से की गई तत्पश्चात लेफ्टिनेंट जनरल वी के शर्मा, एवं प्रो. डॉ आर. जे राव (रेक्टर जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर) के द्वारा स्वागत भाषण से की गई, इसके बाद मंच पर उपस्थित अतिथियों द्वारा सेमिनार पुस्तिका का विमोचन किया गया. कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए प्रो. डॉ. जी.बी.एस.के प्रसाद (स्कूल आॅफ स्टडी इन बायोकेमिस्ट्री, जीवाजी यूनिवर्सिटी ग्वालियर) के द्वारा मेटाबोलिक सिंड्रोम और इसके चिकित्सकीय दृष्टिकोण विषय पर मुख्य व्याख्यान दिया गया, स्वल्पाहार के पश्चात ब्लाक ह्लबीह्व स्थित एमिटी इंस्टिट्यूट आॅफ बायोटेक्नोलॉजी पर प्रथम तकनीकी सत्र की शुरूआत ह्लपोस्टर प्रेसेंटेशन-1ह्व  से हुई. प्रो. डॉ. ईशान पात्रो जीवाजी यूनिवर्सिटी द्वारा ह्लनो हेल्थ विदआउट मेंटल हेल्थह्व विषय पर व्याख्यान से मुख्य तकनीकी सत्र का आरम्भ दोपहर 12 बजे से हुआ. जिसकी अध्यक्षता प्रो. डॉ. जी.बी.एस.के प्रसाद एवं सह अध्यक्षता प्रो. डॉ. आर.एस तोमर ने की. इसी क्रम में प्रो. डॉ. नलिनी श्रीवास्तव (जीवाजी यूनिवर्सिटी) ने ह्लइन्वोल्वेमेंट आॅफ ओक्सीडेटिव स्ट्रेस इन टोक्सीसिटी आॅफ ओर्गान-फास्फेट पेस्टीसाईटह्व विषय पर द्वितीय व्याख्यान प्रस्तुत किया. तत्पश्चात ह्लएस्टीमेशन आॅफ एक्रीलामाइड इन फूड आइटम्सह्व शीर्षक पर डॉ. साधना श्रीवास्तव (जीवाजी यूनिवर्सिटी) द्वारा व्याख्यान दिया गया.
ह्लग्लाइकोजन फोसफोराइलेस: ए मोर सेंसिटिव एंड स्पेसिफिक मार्कर फॉर अर्ली डायग्नोसिस आॅफ एक्यूट मायोकार्डिया इन्फेरेकसनह्व शीर्षक पर प्रो. डॉ नीलिमा सिंह के व्याख्यान से सामानांतर द्वितीय सत्र (बायोकेमिस्ट्री एंड मेडिकल बायोकेमिस्ट्री) की शुरूआत दोपहर 12 बजे हुई, इस सत्र की अध्यक्षता प्रो. डॉ नीलिमा सिंह (डिपार्टमेंट आॅफ बायोकेमिस्ट्री जी आर एम् सी) ग्वालियर एवम सह अध्यक्षता डॉ शुची कौशिक द्वारा की गई इसी क्रम में डॉ ज्योति प्रियदर्शिनी श्रीवास्तव (जी आर एम् सी ग्वालियर) ह्लएप्लीकेशन आॅफ नैनोटेक्नोलाजी इन हेल्थ केयरह्व शीर्षक पर व्यख्यान दिया. तत्पश्चात अंजलि शर्मा (जीवाजी यूनिवर्सिटी) के द्वारा ह्लइफेक्ट आॅफ  एस-बैंड इलेक्ट्रोमेग्नेटिक रेडीएसन ओन मेल विस्टार रैट्सह्व विषय पर प्रस्तुतिकरण दिया गया. क्रमानुसार ह्लरूटीन रिवरसेस एक्रीलामाइड इंडयूस्ड हेपटो रेनल अल्टरेशन: ए बायोकैमिकल एंड हिस्टो पैथोलॉजिकल अप्रोचह्व शीर्षक पर छवि उथरा (जीवाजी यूनिवर्सिटी) ने प्रस्तुतिकरण दिया।
भोजनावकाश के बाद डॉ. डी. टी. सेलवम (साइंटिस्ट ?फ डी. आर. डी. इ. ग्वालियर) की अध्यक्षता एवं            डॉ राघवेन्द्र मिश्रा की सह अध्यक्षता में तृतीय तकनीकी सत्र की शुरूआत हुई. साथ ही ह्लपोस्टर प्रेजेंटेशन-2ह्व के मूल्यांकन की हुई. तत्पश्चात ह्लरोल आॅफ बायोइन्फोर्मैटिक एंड कम्प्यूटेशनल बायोलॉजीइन आइडेंटिफिकेशन आॅफ टारगेट्स फॉर डेवलपमेंट आॅफ डिटेक्शन  अस्से फॉर बायोलॉजिकल वॉरफेयर एजेंट्सह्व  विषय पर डॉ. डी. टी. सेलवम द्वारा दिया गया. इसी क्रम में उक्त सत्र का द्वितीय व्याख्यान डॉ. डी. एस. राठौर (के. आर. जी. पी. जी. कॉलेज ग्वालियर) के द्वारा ह्लडाइवर्सिटी एंड सक्सेशन आॅफ फंगी ओन फिनिश्ड लेदर एंड लेदर आर्टकैल्सह्व विषय पर व्याख्यान दिया गया, सत्र आगे बढाते हुए अमृता साहा द्वारा इन-विट्रो स्क्रीनिंग आॅफ स्माल मॉलिक्यूल इन्हिबिटर्स अगेंस्ट चिकुनिगुनिया वायरसह्व विषय पर व्याख्यान दिया गया.
दोपहर 1:45 से प्रो. डॉ. आर. के सिंह वरिष्ठ वैज्ञानिक (सीएसआईआर, सीडीआरआई, हेड डिवीजन आॅफ टोक्सीकोलोजी, लखनऊ) की अध्यक्षता एवं डॉ. अनुराग ज्योति की सह अध्यक्षता में चतुर्थ तकनीकी सत्र की शुरूआत की गई ह्लइन्वेंशन आॅफ अ न्यू मॉलिक्यूल रिसुगाद्व फॉर द प्रिवेंसन आॅफ प्रोस्टेट कैंसरह्व विषय पर प्रो. डॉ. आर. के सिंह ने व्याख्यान दिया. इस सत्र में चार मौखिक प्रेजेंटेशन हुए. क्रमानुसार डॉ अजय शर्मा ने ह्लकैम्पटोथीसीन एस्टीमेशन एंड एंटीअर्थ्रिक एक्टिविटी आॅफ नोथापोड़ाटस फोईटिदा लिन्न फ्रूट्स इन फ्रयून्ड्स एड्जुवंत इंडसड अर्थऋतिक रैट मॉडल विषय पर एवं नेहा प्रसाद ने ह्लएन्टीहाइपरगलाईसेमिक डाइटरी सप्लीमेंट: फंकसनल & न्यूट्रास्युटिकल चिवड़ाह्व विषय पर अपने प्रस्तुतिकरण दिए.
पांचवां एवं अंतिम तकनीकी सत्र (इनवायरमेंटल एंड इंडस्ट्रियल बायोरेक्नोलॉजी) प्रो.  डॉ. आर. जे राव (जीवाजी यूनिवर्सिटी) की अध्यक्षता एवं डॉ विकास श्रीवास्तव की सह अध्यक्षता में आरम्भ हुआ जिसमे तीन विशेष आमंत्रित व्यख्यान क्रमानुसार डॉ. आर. जे राव ने ह्लनेचुरल रिसोर्सेस कन्सरवेसन & ह्यूमन वाइल्डलाइफ कॉनफ्लिक्ट मैनेजमेंटह्वह्य विषय पर, डॉ वी.के शर्मा (सह निदेशक जालमा)  ने लइलेक्ट्रान माइक्रोस्कोप: इमर्जिंग एस ए पावरफुल टूल फॉर रिसर्च इन लाइफ साइंसह्व विषय पर, एवं प्रो. डॉ. अविनाश तिवारी (जीवाजी यूनिवर्सिटी) ने ह्लकार्बन सेक्युस्ट्रासन एंड इकोसिस्टम सर्विस फॉर सस्टेनेबलह्व विषय पर दिए.
संगीता शर्मा (जीवाजी यूनिवर्सिटी) द्वारा ह्यकार्बन सेक्युस्ट्रासन पोटेंसिअल आॅफ ट्री बायोमास इन सैकरेड एंड नॉन-सैकरेड ग्रोवस आॅफ ग्वालियर डिस्ट्रिक्टह्ण विषय पर मौखिक प्रेजेंटेशन दिया गया.
एमिटी यूनिवर्सिटी मध्य प्रदेश द्वारा आयोजित इस एक दिवसीय राष्ट्रीय सेमीनार के समापन सत्र में मुख्य अतिथि प्रो. डॉ. आर. के सिंह वरिष्ठ वैज्ञानिक (सीएसआईआर, सीडीआरआई, हेड डिवीजन आॅफ टोक्सीकोलोजी, लखनऊ), एवं ले. जन. वी के शर्मा कुलपति एमिटी यूनिवर्सिटी ने उपस्थित विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को संबोधित किया, इस अवसर पर मुख्य अतिथि एवं कुलपति महोदय द्वारा मौखिक सर्वश्रेष्ठ प्रजेंटेशन के विजेता कु. संगीता शर्मा जीवाजी विश्वविद्यालय  ग्वालियर तथा पोस्टर प्रेजेंटेशन के प्रथम विजेता भावना तोमर के. आर. जी. पी. जी. कॉलेज ग्वालियर एवं द्वितीय विजेता कु. ट्विंकल गुप्ता एमिटी इंस्टिट्यूट आॅफ बायोटेक्नोलॉजी, एमिटी यूनिवर्सिटी मध्य प्रदेश ग्वालियर को घोषित कर सम्मानित किया गया. समारोह के समापन सार सेमिनार के संयोजक प्रो. डॉ. आर.एस तोमर (डीन एकेडेमिक एमिटी यूनिवर्सिटी ग्वालियर) द्वारा दिया गया. प्रो. तोमर ने अपने संबोधन में बताया कि ११० से ज्यादा शोध पत्र प्राप्त हुए इसके अलावा 13 विषय विशेषज्ञों द्वारा आमंत्रित व्याख्यान दिए गए. जिनमे ग्वालियर के अतिरिक्त बाहर की संस्थाओ / विश्वविद्यालय द्वारा शोध पत्र प्राप्त हुए. उन्होंने तकनिकी सत्रों के बारे में सारगर्भित व्याख्यान दिए. तत्पश्चात धन्यवाद ज्ञापन डॉ. राघवेन्द्र मिश्रा  ने दिया. उन्होंने राष्ट्रीय सेमिनार के संयुक्त सचिवों के प्रयासों के लिए सराहना की  डॉ. राघवेन्द्र कुमार मिश्रा , डॉ. विकास श्रीवास्तव, डॉ. शुचि कौशिक और डॉ. अनुराग ज्योति एवं अन्य संकाय सदस्यों, डॉ राघवेन्द्र सक्सेना,           डॉ. मनीष कुमार, डॉ प्रतिष्ठा द्विवेदी और श्रीमति शर्मिष्ठा वेनर्जी के अनवरत सहयोग के लिए सराहना की और साथ ही एमिटी इंस्टिट्यूट बायोटेक्नोलॉजी  के सभी छात्रों को सम्मेलन के सफल आयोजन में योगदान के लिए धन्यवाद दिया।

———————————————————————————————————

VIDEO: PAYARA BACHCHA

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *