धर्मक्रम समाचार

इस्लामी शरीयत की जानकारी के लिए आल इंडिया गरीब नवाज कौंसिल ने जारी की हेल्प लाइन

इस्लामी शरीयत की जानकारी के लिए आल इंडिया गरीब नवाज कौंसिल ने जारी की हेल्प लाइन

कानपुर। अगर आप को इस्लाम और शरीयत से संबंधित कोई भी सवाल पूछना चाहते हैं। तो आप की मजहबी समस्याओं को हल करने के लिए आल इंडिया गरीब नवाज कौंसिल ने एक हेल्पलाइन जारी की है। इस हेल्प लाइन के जरिए आप इसके लिए नीचे दिए नंबरों पर व्हाटसअप के जरिए, फोन के जरिए और र्इ-मेल के जरिए  सीधे अपने सवाल भेज सकते हैं।

सहरी के लिये जगाना नेक काम है मगर बीमार गैर मुकल्लफ और तालिब इल्म का ख्याल भी जरूरीआल इण्डिया गरीब नमाज कौन्सिल माहे स्याम हेल्प लाइन में उलमा-ए-अहले सुन्नत का जवाब ।

1 क्या सहरी के लिये रोजादारों को जगाना बिदअत है—- अहमद अली कानपुर

जवाब: सहरी के लिये जगाना बिदअत हसना (अच्छी बिदअत) है कि इसके लिये मुसलमानों को इजतमाई तौर पर ख्वाब से बेदार करना अच्छा फेल है उसमें तकवा व परहेजगारी पर मदद है जमाना रिसालत माब सल्ल. में भी नमाज तहज्जुद जो कि एक नफिल है उसके लिये खास अजान का ऐहतमाम था अलबत्ता सहरी में जगाने के लिये ऐसे कामों से बचना जरूरी है जो बीमारों और तालिब इल्मों और गैर मुकल्लफीन के लिये तकलीफ का सबब बने।

2 लेगों की गरदन फलांग कर आगे सफों में जाना कैसा है

जवाब: सफों में गुंजाइश न होने के बावजूद लोगों की गर्दनें फलांग कर आगे की सफ में जाना जायज नहीं। उसके ताल्लुक से हीदस पाक में इरशाद हुआ एक शख्स बारगाह नबवी सल्ल. में हाजिर आया तो सरकार ने फरमाया आज तूने जुमा क्यों नहीं पढ़ा। उसने अर्ज किया या रसूल अल्लाह सल्ल. मैंने जुमा की नमाज पढ़ी थी तो हुजूर सल्ल. ने फरमाया क्या मैंने तुझे लोगों की गर्दनें फलांगते नहीं देखा? याद रखो जिस ने ऐसा अमल किया उसकी पीठ कयामत के दिन दोजख के दिन दोजख का पुल बनाई जायेगी लोग उसके ऊपर से गुजरेंगे और उसको पामाल करेंगे।

3 मस्जिद के निचले हिस्से में जगह रहते हुये मस्जिद की छत पर नमाज पढ़ना कैसा है

जवाब: मस्जिद की छत पर चढ़ना मकरूह है नीचे जगह होते हुये उसकी छत पर नमाज पढ़ी तो नमाज मकरूह हुई।

4 ख्वातीन को बीमारी के खून में रोजा  रखना और नमाज पढ़नी जरूरी है या माफ है

जवाब: ख्वातीन में आदत विलादत के अलावा भी बीमारी की वजह से भी खून आ जाता है शरीअत में उसे इस्तहाजा कहते हैं उसमें रोजा व नमाज फर्ज हैं कुछ भी माफ नहीं।

माहे स्याम हेल्प लाइन में मुफ्तियान कराम व ओलमा के राब्ता जाती नम्बरात व व्हाटसअप

1 मुफ्ती मोहम्मद अहमद अशरफी मुफ्ती-ए-आजम   9336509597

2 मौलाना मोहम्मद हाशिम अशरफी  9415064822 व्हाटसअप

3 मौलाना महताब आलम मिस्बाही कादरी 9044890301 व्हाटसअप

4 मौलाना कासिम हबीबी     9839728740

5 मुफ्ती मो. नईमुद्दीन कादरी मिस्बाही      9956681752

6 मौलाना परवेज अख्तर अलीमी 9616780275 व्हाटसअप

7 मौलाना फतेह मोहम्मद 9918332871

8 मौलाना आरिफुलकादरी मिस्बाही 8953078321

9 मौलाना षहनवाज मिस्बाही 8181919311

10 मौलाना सोहैब मिस्बाही 9793174418 व्हाटसअप

11 मुफ्ती वसीम अहमद मिस्बाही 7505649135 व्हाटसअप

12 मुफ्ती रफी अहमद मिस्बाही     8896624124      व्हाटसअप

13 मौलाना मो. जुनैद मिस्बाही      7309580779      व्हाटसअप

14 शाह आजम बरकाती     9369777701      व्हाटसअप

15 मास्टर इकबाल अहमद नूरी      8528840240      व्हाटसअप

16 कार्यालय आल इंडिया गरीब नवाज कौंसिल      70077240187, 7394846082  व्हाटसअप

मो. शाह आजम बरकाती

मीडिया इंचार्ज – आल इंडिया गरीब नवाज कौंसिल

मोबाइल: 9369777701

E_mail : aignc1439@gmail.com,  visharadtimes@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *