जीवनशैली शिक्षा/टेक्नालाजी समाचार

इंटर्नशिप के लिए भारतीय कम्पनियों में टॉप पर पीआर 24×7

इंटर्नशिप के लिए भारतीय कम्पनियों में टॉप पर पीआर 24×4
करियर में आगे बढ़ने में इंटर्नशिप का महत्व

बहुसंख्यक छात्रों के लिए इंटर्नशिप शैक्षणिक दृश्टिकोण से बहुत महत्वपूर्ण है जो कॉलेज में पढाई कर रहे है। साल के अंतिम सेमेस्टर में या साल खत्म होने पर इंटर्नशिप करना उनके लिए जरुरी होता है, उन्हें उद्योगजगत में पहचान बनाने और कॉर्पोरेट वर्ल्ड में काम के बारे में जानना है तो इंटर्नशिप बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इंटर्नशिप एक अवसर है जो कंपनी और एम्प्लायर द्वारा योग्य कैंडिडेट्स को दिया जाता है जिन्हे इंटर्न्स कहते है जिसमे उन्हें कई प्रकार के काम करवाए जाते है जो कॉर्पोरेट वर्ल्ड में आने में काम आते है और इन्हे काम के द्वारा उनमें छिपी हुई प्रतिभा सामने आती है और वो किस काम में दक्ष है यह जानने का उन्हें मौका मिलता है। इंटर्नशिप के अंत में उन्हें एक सर्टिफिकेट दिया जाता है जिससे उनकी प्रतिभा और काम करने की लगन का पता चलता है जो उन्हें किसी कंपनी में जॉब पाने में मददगार साबित होता है। कई कंपनियां इंटर्न्स को फिक्स्ड स्टिपेन्ड भी देती है जिससे उनका आत्मविश्वास भी बढ़ता है। इंटरनशिप का समय 4 हफ्ते या 2 महीने का होता है।
इंटर्नशिप कहाँ से करनी है और किस कंपनी में करनी है। इसका चुनाव आपके करियर के लिए बहुत अहमियत रखता है। क्योंकि जिस क्षेत्र में आपको जाना है वो आपको पता होना चाहिए तभी आप सही चुनाव कर पाएंगे।.अगर मीडिया मैनेजमेंट, इवेंट मैनेजमेंट, क्राइसिस मैनेजमेंट, टाइम मैनेजमेंट, क्लाइंट कोर्डिनेशन जैसे काम करना चाहते है तो पीआर 24ग7 आपके लिए बेस्ट चॉइस है।इंटर्नशिप में आपको अपने बारे में जानने का मौका मिलता है, आपकी योग्यता को परखने का अवसर मिलता है, साथ में आपमें समय का पालन और अनुशासन में रहकर काम करना सीखते है।

इंटर्नशिप क्यों जरुरी है उनके कुछ कारण

रियल वर्ल्ड एक्सपीरियंस रू किसी कंपनी को इंटर्न के रूप में ज्वाइन करने से आपको प्रोफेशनल एन्वॉयरन्मेंट में काम करने का मौका मिलता है। इंटर्न के रूप में आपको सिर्फ हाथ में कॉफी का कप या इधर उधर घूमने का मौका नहीं मिलता, बल्कि आपको वास्तविकता के रूबरू होने का मौका मिलता है।..इंटर्नशिप में आपको आपके करियर के रास्ते में आने वाली परेशानियों को जानने का मौका मिलता है उनसे बहार आने का रास्ता मिलता है और काबिलियत भी मिलती है। इंटर्नशिप आपके करियर को शुरुआत करने के लिए टेस्ट ड्राइव का किरदार निभाती है।नेटवर्किंग रू इंटर्नशिप में आपको इवेंट्स और मीटिंग अटेंड करने का मौका मिलता है, प्रोफेशनल लोगों से मिलकर आपके नए कनेक्शंस जुड़ते है साथ ही साथ आपकी कम्युनिकेशन स्किल में भी सुधार होता है। नेटवर्किंग से आपको कई रिफरेन्स मिलते है, जो कि आपकी आने वाली प्रोफेशनल लाइफ में मददगार साबित हो सकते है।रिज्यूमे बिल्डर रू कॉलेज स्टूडेंट होने के नाते आपको पता होता है स्ट्रांग रिज्यूमे का मतलब. क्या हैं। बिना स्ट्रांग रिज्यूमे के आपको अच्छी जॉब पाने में परेशानी आ सकती है और बिना अनुभव के आप स्ट्रांग रिज्यूमे नहीं बना सकते,..इसलिए इंटर्नशिप आपके लिए एक बहुत ही अच्छा विकल्प है जिससे की आपको अपनी स्टूडेंट लाइफ में प्रोफेशनल वर्किंग का अनुभव प्राप्त हो सकता है।

करियर फाउंडेशन रू कई इंटर्नशिप के अवसर आपके करियर को एक आधार दिलवाती है, इसलिए जरुरी है कि आप अपने रूचि और करियर सम्भावनाओ के अनुसार इंटर्नशिप का चयन करे। इंटर्नशिप के जरिये आपको कंपनी में अपना कदम रखने का मौका मिलता है ध्यान रखे कि कंपनी इंटर्नशिप को रिक्रुटमेंट टूल के रूप में इस्तमाल करती है और कई बार इंटर्न्स को उनके ग्रेजुएशन के बाद ही हायर कर लेती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *