समाचार

आईएएस यूनुस और पीसीएस अंजुम ने लिया शहीद परमजीत की बेटी को गोद

आईएएस यूनुस और पीसीएस अंजुम ने लिया शहीद परमजीत की बेटी को गोद
शिमला (वेब न्यूज)। सिर्फ-नारे लगाने से शहीद और उनके परिवारों की मदद नहीं होती है, उसके लिए कोशिश भी करनी होती है। ऐसी ही एक कोशिश कर मिसाल कायम की है आईएएस यूनुस और आईपीएस अंजुम आरा ने की।  सीमा पर सैनिकों के साथ की गई बर्बता ने इस दंपति को अंदर तक झकझोर दिया जिसके बाद इन्होंने शहीद परमजीत की 12 साल की बेटी गोद लेने का फैसला किया है ।
आईएएस यूनुस कुल्लू में उपायुक्त हैं और पत्नी अंजुम सोलन में एसपी । अंजूम देश की दूसरी मुस्लिम आईपीएस हैं। दोनों ने तरणतारण के शहीद परमजीत की बेटी को गोद लेने का फैसला लेकर नई मिसाल कायम की है, इस युवा दंपति ने अपने इस फैसले को गोपनीय ही रखना चाहा था लेकिन मीडिया में ये खबर लीक हो गई।
इस नौजवान दंपति के फैसले पर जब शहीद परमजीत की पत्नी से बात की तो उनके इस नेक फैसले से इंकार नहीं कर पाई। बच्ची अपनी मां के पास ही रहेगी लेकिन उसके ताउम्र पढ़ाई और बाकी खर्चे यूनुस और अंजुम उठाएंगे।
यूनुस और अंजुम का चार साल का बेटा है और उन्होंने कहाकि हमें खुशी है कि भाई को बहन मिल गई है। दोनों ने कहाकि हम कोशिश करेंगे भाई-बहन के बीच का रिश्ता गहरा रहे। दंपति ने कहाकि उनकी पूरी कोशिश होगी कि बच्ची को पढ़ाई में कोई कमी ना आए, अगर वो आईएएस या आईपीएस भी बनना चाहेगी तो हम उसकी पूरी मदद करेंगे। दंपति जल्द ही शहीद के घर भी जाएंगे। यूनुस ने कहा की सरहदों की हिफाजत करने वाले सैनिकों के परिवारों को इसी तरह की सुरक्षा और मदद की जरूरत है ताकि उनका मनोबल बढ़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *