जीवनशैली

अगर आपको घूमना है पसंद तो फॉरेस्ट्री में बना सकते है अपना करियर

अगर आपको घूमना है पसंद तो फॉरेस्ट्री में बना सकते है अपना करियर
आपको जंगलों से लगाव है और आप यहां घूमना पसंद करते हैं, तो फॉरेस्ट्री (वानिकी) में अपना करियर बना सकते हैं। यह एक रोमांचक क्षेत्र हैं। इसमें युवाओं के लिए करियर बनाने के कई अवसर उपलब्ध हैं। जाहिर है कि जंगल एक महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन हैं। ये जैव तंत्र और अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के साथ लोगों का जीवनस्तर उठाने में भी मदद करते हैं। अगर आज जंगल न रहे तो धरती पर जीवन खतरे में पड़ सकता है। इसलिए वनों की सुरक्षा और उनको विकसित करने के उद्देश्य से इसे एक करियर का रूप दे दिया गया है। जानें इस कॅरियर के बारे में… वनों के प्रबंधन एवं उनकी देखभाल के लिए फॉरेस्ट्री (वानिकी) प्रोफेशनल्स की विशेष दरकार होती है। इनके ऊपर देश की प्राकृतिक धरोहर एवं संपदा को बचाने की जिम्मेदारी है। इसके लिए उन्हें वन्य जीवों की रक्षा संबंधी चुनौतियों से भी दो-चार होना पड़ता है। आमतौर पर फॉरेस्ट्री एक ऐसा विज्ञान है, जिसके अंतर्गत जंगलों के विकास एवं उनकी देखभाल की रूपरेखा तय की जाती है। इस क्षेत्र में काम करने के दौरान आपको दुनिया के बेहतरीन क्षेत्रों में जाने का मौका मिलेगा और प्रकृति से जुडऩे का बेहतरीन अनुभव भी प्राप्त होगा। चुनौतियों से भरपूर करियर फॉरेस्ट्री का क्षेत्र सुनने में भले ही आसान लगता हो, लेकिन इसमें कदम दर कदम चुनौतियां हैं। पेशेवरों के सामने वनों की सुरक्षा के साथ-साथ प्लांटेशन की भी जिम्मेदारी होती है। इस क्षेत्र के अंतर्गत आप न केवल अपना कॅरियर बना सकते हैं, बल्कि इसके जरिये आप वन और वन्य जीवों के बारे में कई तरह की जानकारी भी हासिल कर सकते हैं। आप वन्य जीवों के बचाव के लिए जागरुकता अभियान चलाकर अपने सामाजिक कर्तव्यों को भी पूरा कर सकते हैं। कार्य स्वरूप फील्ड साइट पर पहुंच कर डेटा इक_ा करना, साइट की भौगोलिक स्थिति के मुताबिक ऊबड़-खाबड़ और मुश्किल रास्तों पर चढ़ाई या ड्राइव करना, वन्यजीव विशेषज्ञों से मिलना और बातचीत करना, साइंटिफिक पेपर, टेक्निकल रिपोर्ट या पॉपुलर ऑर्टिकल्स का काम पूरा करना, अनुदान या वित्तीय सहायता के लिए लिखना तथा नीति निर्माताओं से मुलाकात करना। योग्यता फॉरेस्ट्री में कॅरियर बनाने के लिए आपको विज्ञान विषयों के साथ 12वीं पास होना जरूरी है, तभी बीएससी में दाखिला मिल सकता है। बीएससी के बाद एमएससी में आसानी से प्रवेश मिल सकता है। कई संस्थानों में पीजी डिप्लोमा इन फॉरेस्ट मैनेजमेंट का कोर्स भी उपलब्ध है। मास्टर के बाद आप चाहें तो एमफिल या पीएचडी में दाखिला ले सकते हैं। कुछ प्रमुख कोर्स बीएससी इन फॉरेस्ट्री एमएससी इन फॉरेस्ट्री बीएससी इन वाइल्ड लाइफ एमएससी इन वाइल्ड लाइफ एमएससी इन वुड साइंस एंड टेक्नोलॉजी पीजी डिप्लोमा इन फॉरेस्ट मैनेजमेंट एमफिल इन फॉरेस्ट्री पीएचडी इन फॉरेस्ट्री रोजगार की व्यापक संभावनाएं कोर्स करने के बाद कई क्षेत्रों में काम मिलता है। सरकारी व प्राइवेट क्षेत्रों के अलावा एनजीओ में भी अवसर हैं। टिम्बर प्लांटेशन सरीखे कार्यों के लिए कॉरपोरेट हाउस को फॉरेस्ट ग्रेजुएट्स की जरूरत होती है। यदि शोध के क्षेत्र में रुचि रखते हैं तो इंडियन काउंसिल ऑफ फॉरेस्ट्री रिसर्च एंड एजुकेशन जैसे संस्थान में मौका पा सकते हैं। इसके अलावा वाइल्ड लाइफ रेंज मैनेजर, वाइल्ड लाइफ रेफ्यूज मैनेजर, रिसर्चर, फोटोग्राफर, वाइल्ड लाइफ जर्नलिस्ट और टीचर के रूप में अपना कॅरियर बना सकते हैं। इसके अलावा आप बीबीसी, डिसकवरी और नेशनल ज्योग्राफिक के लिए फिल्म/डॉक्युमेंट्री भी बना सकते हैं। ये गुण हैं जरूरी यह ऐसा क्षेत्र है, जिसमें एक पेशेवर को अपने अंदर कई तरह के गुणों को विकसित करना होता है। शारीरिक रूप से मजबूत होने के साथ-साथ आपको प्रकृति से प्रेम होना चाहिए। इसके अलावा उसमें धैर्य, साहस, पब्लिक रिलेशन स्किल्स, निर्णय लेने की क्षमता, लंबी अवधि तक कार्य करने की क्षमता, कम्प्यूटर पर काम करने की जानकारी होनी जरूरी है।
े बन सकते हैं फॉरेस्टर डेन्ड्रोलॉजिस्ट एथनोलॉजिस्ट एन्टोमोलॉजिस्ट सिल्वकल्चरिस्ट फॉरेस्ट रेंज ऑफिसर जू क्यूरेटर प्रमुख संस्थान वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून बिरसा एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी, रांची जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर ओडिशा यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर एंड टेक्नोलॉजी नेचर कंजर्वेशन फाउंडेशन डॉ. वाईएस परमार यूनिवर्सिटी ऑफ हॉर्टिकल्चर एंड फॉरेस्ट्री।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *